DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहरसा में साइबर क्राइम व सोशल मीडिया यूनिट बनकर तैयार

साइबर क्राइम व सोशल मीडिया से संबधित मामलों में निगरानी व कारवाई करने के लिए जिले में साइबर क्राइम एवं सोशल मीडिया यूनिट की स्थापना हो चुकी है।बहुत जल्द ही इसका विधिवत रूप से उद्धाटन कर दिया जाएगा। यूनिट के स्थापित होने के बाद जिले में किसी भी प्रकार के साइबर अपराध व सोशल मीडिया से जुडे़ हुए मामलों पर अनुसंधान व कारवाई करने में सुविधा होगी। सीसीएसएमयू एसपी गोपनीय कार्यालय परिसर में स्थापित किया गया है।साइबर क्राइम एवं सोशल मीडिया यूनिट में एक प्रोग्रामर, तीन डाटा सहायक कोटि के विशेषज्ञ होगें। यूनिट में कम्प्यूटर एक्सपर्ट एक पुलिस निरीक्षक, तीन पुलिस अवर निरीक्षक, दो सिपाही रैंक के कर्मी की भी नियुक्ति होगी। कम्प्यूटर के जानकार पुलिस निरीक्षक व पुलिस अवर निरीक्षक साइबर क्राइम सेल में रहेगें। राज्य सरकार के साइबर क्राइम व सोशल मीडिया के दुरुपयोग की घटनाएं बढ़ने की वजह से राज्य में 74 सीसीएसएमयू यूनिट के गठन का निर्णय लिया गया था। जिसके तहत जिले के आकार व समस्याओं के मद्देनजर उसका वर्गीकरण कर यूनिट की स्थापना की जाएगी। कोसी प्रमंडल के तीनों जिले में एक एक यूनिट का गठन किया जाएगा।अभी साइबर क्राइम के रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए राज्य स्तर पर राजधानी पटना में साइबर यूनिट अपराध इकाई कार्यरत है। पिछले पांच वर्षों के दौरान इस प्रकार के अपराध में कई गुणा वृद्धि हुई है। इसी आवश्यकता को देखते हुए हर जिले के आकार व आवश्यकता के अनुसार यूनिट गठित करने का निर्णय लिया गया था। सेल में पदाधिकारियों की नियुक्ति दो वर्षों के लिए होगी और पुलिस निरीक्षक यूनिट के प्रभारी होगें।प्रोग्रामर तकनीक विशेषज्ञ की भूमिका निभाएंगे और सभी प्रकार के साइबर अपराध, सोशल मीडिया एवं आईटी एक्ट के अन्य दुरुपयोग को लेकर प्रतिवेदित कांडो के अनुसंधान सहयोग करेंगे। अभी साइबर क्राइम से जुड़े मामलों का अनुसंधान एक ही पुलिस पदाधिकारी जिम्मे है।बिहार कम समय में इतने बड़े पैमाने पर यूनिट करने वाला पहला राज्य है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:saharsa cyber crime social media unit