DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोसी में 11 हेक्टेयर में बनेगा नया तालाब

कोसी में 11 हेक्टेयर में बनेगा नया तालाब

देसी मछली उत्पादन के जरिए कोसी प्रमंडल के किसानों के चेहरे पर खुशहाली लौटेगी। प्रमंडल के सहरसा, सुपौल और मधेपुरा जिले में 11 हेक्टेयर नया तालाब निर्माण किया जाएगा। मत्स्य विभाग ने वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए जिलावार लक्ष्य निर्धारित कर दिया है। लक्ष्य के मुताबिक सहरसा में 3 हेक्टेयर, सुपौल और मधेपुरा जिले में 4-4 हेक्टेयर में नया तालाब निर्माण किया जाएगा। प्रति हेक्टेयर तालाब निर्माण की लागत राशि 7 लाख निर्धारित किया गया है। मत्स्य उपनिदेशक पवन कुमार पासवान ने बताया कि तालाब निर्माण के लिए लोगों में ललक जगाने के लिए लागत राशि के विरुद्ध 40 प्रतिशत अनुदान राशि मिलेगा। नया तालाब निर्माण मुख्यमंत्री मत्स्य विकास योजना के तहत किया जाएगा।

तालाब पर 75 हजार क्यूबेल एवं पम्पसेट यूनिट लगेगा : तालाब पर 75 हजार क्यूबेल एवं पम्पसेट यूनिट लगेगा। इसमें सहरसा और सुपौल का 7-7 और मधेपुरा का 4 लक्ष्य रखा गया है।मनचोर में मत्स्य अंगुलिकाओं का होगा संचरण : मनचोर में मत्स्य अंगुलिकाओं का संचरण होगा। इसमें तीनों जिले सहरसा, सुपौल और मधेपुरा जिले में 25-25 हेक्टेयर में मत्स्य अंगुलिकाओं का संचरण किया जाएगा। प्रति पीस ढाई रुपए की दर एक अंगुलिकाओं की लागत राशि निर्धारित है। जिसमें एक रुपये सब्सिडी मिलेगा।

एससी-एसटी को नर्सरी तालाब निर्माण पर 90 प्रतिशत अनुदान : एससी-एसटी को नर्सरी तालाब निर्माण पर 90 प्रतिशत अनुदान राशि मिलेगी। विशेष घटक योजना के तहत नर्सरी तालाब की इकाई लागत राशि 1.51 लाख प्रति यूनिट है।

इसमें सहरसा में छह, सुपौल में 6 और मधेपुरा का दो एकड़ का लक्ष्य रखा गया है। विशेष घटक के तहत ही टयूबवेल पंपसेट का सहरसा, सुपौल का लक्ष्य 12-12 व मधेपुरा का 4 है।

पोखर से निकाली गई देसी मछली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:New pond to be constructed in 11 hectares of Kosi