DA Image
30 सितम्बर, 2020|1:17|IST

अगली स्टोरी

सहरसा में सर्दी, खांसी और बुखार के बढ़े मरीज

सहरसा में सर्दी, खांसी और बुखार के बढ़े मरीज

बदलते मौसम के कारण इन दिनों सदर अस्पताल सहित जिले के अन्य अस्पतालों में सर्दी, खांसी, बुखार और चर्म रोग से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। मौसमी बीमारियों से परेशान लोग सुबह ही अस्पताल पहुंच जा रहे हैं।

सोमवार को ओपीडी खुलने से पूर्व ही दर्जनों मरीज सदर अस्पताल पहुंच गए। लगभग 185 मरीजों ने इलाज के लिए परची कटाया। बेंगहा, सपटियाही, गोबरगढा सहित शहर के आसपास इलाके के मरीज अधिकतर इलाज के लिए सदर अस्पताल आते हैं। परची काटने वाले कर्मी ने बताया कि 15 दिन पूर्व प्रतिदिन सौ से सवा सौ मरीज ही इलाज के लिए सदर अस्पताल आते थे। अभी एक सप्ताह से 150 से 200 तक मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इसमें अधिकतर मरीज सर्दी, खांसी और बुखार से पीड़ित रहते हैं।

कोरोना के डर से नहीं आते कुछ मरीज: कुछ मरीज ऐसे भी हैं, जो कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से सदर अस्पताल इलाज के नहीं आते हैं। कई लोगों ने बताया कि डॉक्टर दूर से देखकर लक्षण पूछकर जांच के लिए रेफर कर देते हैं। इसके कारण जांच करवाना मजबूरी हो जाता है। कोरोना के डर से सर्दी-बुखार के मरीज स्थानीय दवा दुकान से दवा खरीद कर रोग को दबाने का भरसक प्रयास कर रहे हैं।

शहर के अन्य स्वास्थ्य केंदों पर भीड़ : शहर के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों पर भी मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। इसके अलावा नीजि अस्पतालों में भी मरीज पहुंच रहे हैं। शहर में दो प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र संचालित है। सहरसा बस्ती पीएचसी के कर्मी के अनुसार इन दिनों अधिकतर मरीज सर्दी, खांसी व बुखार से पीड़ित रहते हैं। ग्रामीण इलाकेमें मरीजों की भीड़ लगी रहती है।

सदर अस्पताल में आने वाले पिछले तीन दिनों की संख्या : परची काटने वाले कर्मी के अनुसार 28 अगस्त को 150, 29 अगस्त को 170 एवं 31 अगस्त को 185 मरीज ओपीडी में इलाज करवा चुके हैं।

परहेज से ही वायरल से हो सकता बचाव: वायरल से बचने के लिए परहेज करें। सदर अस्पताल के पूर्व चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. विनय कुमार सिंह ने कहा कि तड़के सुबह मौसम ठंडा हो जाता है। लिहाजा उस समय एसी बंद रखें। गर्मी से आने के बाद ठंडा पानी तुरंत नहीं पिएं। गुनगुना पानी का सेवन करें।

अब एक ही शिफ्ट में ओपीडी : सदर अस्पताल में इन दिनों एक ही शिफ्ट ओपीडी का संचालन होता है। साढ़े आठ बजे से साढ़े ग्यारह बजे तक ही ओपीडी में डॉक्टर बैठते हैं। पहले दो शिफ्ट में ओपीडी खुलता था। एक शिफ्ट में ओपीडी चलने से दूरदराज के मरीजों को दिक्कतें हो रही है। ओपीडी बरामदे पर पंखे नहीं रहने से भीषण गर्मी में मरीजों को परेशानी हो रही है। अगर पंखा है भी तो चलता नहीं है। मरीज श्याम सुन्दर दास, आसगरी खातुन, रमेश सहित अन्य ने बताया कि बाहर गर्मी से आने पर ओपीडी में भी राहत नहीं मिल रही।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Increased patients of cold cough and fever in Saharsa