DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार सहरसासहरसा में तटबंध के अंदर कई गांवों में फिर बाढ़ के हालात

सहरसा में तटबंध के अंदर कई गांवों में फिर बाढ़ के हालात

हिन्दुस्तान टीम,सहरसाNewswrap
Fri, 22 Oct 2021 03:51 AM
सहरसा में तटबंध के अंदर कई गांवों में फिर बाढ़ के हालात

सहरसा | हिन्दुस्तान टीम

तटबन्ध के अंदर कई गांव में फिर से बाढ़ जैसे हालात बन आये हैं। बीते तीन दिनों से हुई लगातार मूसलाधार बारिश तथा नेपाल के बराज क्षेत्र से ढाई लाख से अधिक पानी छोड़े जाने से तटबन्ध के अंदर कई गांव में पानी फैल गया है। महिषी प्रखंड के झाड़ा, सलखुआ के साम्हरखुर्द पंचायत के गांव में अधिक असर है। यहां के कई घरों में पानी फैल गया है। सड़कों और खेतों में पांच फीट से अधिक पानी जमा ही गया है। जिस कारण लोगों को फिर से पलायन की समस्या बन आयी है।

सलखुआ से सं.सू. के अनुसार प्रखंड के पूर्वी कोसी तटबंध के अंदर बीते दो दिनों से लगातार मूसलाधार बारिश के बीच लोगों का जीवन फिर से अस्तव्यस्त हो गया है। लोग बाढ़ से भयमुक्त होकर अपना जीवन-यापन सुचारु रुप से चालू करने लगा था कि अचानक मौसम में आई करवट से जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लोग परेशान होकर फिर से अपना सामान सुरक्षित स्थानों पर ले जाने में लग गए हैं। अक्टूबर महीने में इस तरह की बाढ़ की स्थिति कई वर्षों के बाद तटबंध के अंदर के लोगों को देखने को मिला है। खेतों में लहलहाते धान की फसल बारिश और बाढ़ की भेंट चढ़ गई है। किसान मायूस होकर अपने दर्द को सीने में दफनाये कमर भर पानी में धान की बाली को अपने कांपते हुए हाथ से सड़कों पर इकट्ठा करते नजर दिखे हैं।

दियारा क्षेत्र में सैकड़ों एकड़ लगे धान की फसल तेज बारिश के चलते पूरी तरह से बर्बाद हो गया है। पंचायत के किसान बर्बाद फसल को देख मायूस हैं। रोरोकर बुरा हाल है। अलानी के चिरैया निवासी लक्ष्मी यादव, सहदेव यादव अरुण भगत, विद्यानंद भगत, संतोष यादव, ललन चौधरी, रेहरवा निवासी सुबोध यादव,चंदन यादव, संजीव यादव, संजय यादव, वीरेंद्र यादव, नंदकिशोर चौधरी, कबीरा के रैठी निवासी सोनू कुमार,पांडव साह, मिथलेश साह, वीरेंद्र साह, राजेश चौधरी, मनोज शर्मा, केदार राम,बिलास सदा,सकलदेव यादव चानन के बसाही निवासी बोधु महतो, अमरनाथ महतो, सुदिन राम, विनो राम सहित दर्जनों किसानों ने अपनी दर्द भरी आवाज में बताते हैं कि कर्जा लेकर बड़ी मेहनत से धान की फसल लगाए थे। जिससे परिवार का साल भर गुजारा चल सके। अब सब गड़बड़ हो गया है।

सड़कों पर फिर से दिखने लगी बाढ़ जैसी नजारा: तटबंध के अंदर ग्रामीण सड़कों पर मूसलाधार बारिश व बाढ़ के चलते लोंगो के आवागमन पूरी तरह से ठप हो गया है।दियारा के भीतर बनी सड़के बाढ़ व बरसात की भेंट चढ़ गया।कबीरा पंचायत के कबीरा धाप व चानन के सहुरिया बसाही के बीच बनी आरसीसी पुलिया बाढ़ से ध्वस्त हो गया है।धाप बाजार से सैकड़ो की आबादी वाला क्षेत्र सड़क मार्ग से भंग हो गया है।व्यवसाही वर्ग के लोग को व्यापार पूरी तरह से ठप पड़ा हुआ है।

बाढ़ और वर्षा से बाढ़ की स्थिति उत्पन्न: महिषी। पिछले दिनों से हुई भारी वर्षा और कोसी नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी से कोसी का दियारा इलाका में एक बार फिर से बाढ़ की स्थिति बन गयी है। प्रखण्ड के दियारा इलाकों के कई गांवों में पानी घुस जाने से आवाजाही बाधित हो गयी है। झाड़ा सहित कई अन्य गांवों के निचले इलाकों में बसे घरों को पानी ने घेर लिया है, जिससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है। कुंदह में नदी में बाढ़ के पानी के साथ बहकर आ रहे लकड़ी के टुकड़ों को ग्रामीण सहित आसपास के लोग निकालने में लगे हुए है। तटबंध भीतर और तटबंध के बाहर के कई इलाकों पानी भर जाने से धान की फसल को भारी नुकसान हुआ है। पशुचारा का भी अभाव हो गया है। इधर गुरूवार को सीओ देवनंदन सिंह ने प्रखंड क्षेत्र के बाढ़ एवं फसल नुकसान की स्थिति का जायजा क्षेत्र भ्रमण कर लिया।सीओ ने बताया तटबंध के भीतर और पूरब सीपेज वाले क्षेत्रों में खेतों में जमा होने से धान की फसल को काफी नुकसान हुआ है। जिसकी रिपोर्ट भेजी जाएगी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें