DA Image
21 अक्तूबर, 2020|9:41|IST

अगली स्टोरी

एसी का किराया भेज मजदूरों को सहरसा से बुलवाया

एसी का किराया भेज मजदूरों को सहरसा से बुलवाया

किराया के लिए 50 हजार रुपए भेज 14 मजदूरों को परदेस बुलाया गया। मंगलवार को सभी मजदूर सहरसा से नई दिल्ली जाने वाली स्पेशल ट्रेन वैशाली एक्सप्रेस के एसी कोच में बैठकर गए। जिले से गत तीन जून से अब तक चार सौ से अधिक मजदूर काम करने के लिए अलग-अलग राज्यों में भेजे जा चुके हैं।

मंगलवार को मजदूरों को लेकर ठेकेदार जा रहे थे। सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर और सलखुआ प्रखंड क्षेत्र के सभी मजदूरों को मध्य प्रदेश के रतलाम में फ्लाई ओवर निर्माण कार्य के लिए ले जाया गया। ठेकेदार मंटून कुमार पौद्दार ने बताया कि फ्लाई ओवर निर्माण करने वाली कंपनी सीआर इंफ्रास्ट्रक्चर के अंतर्गत सभी मजदूर काम करेंगे। परदेस में कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करने के लिए मजदूरों को ले जाने या भेजने की जवाबदेही कई ठेकेदारों को दी गई है।

मजदूर सहरसा से नई दिल्ली और वहां से दूसरी ट्रेन से गंतव्य स्टेशन को जाएंगे। इधर, सहरसा स्टेशन पर कतारबद्ध करते सभी मजदूर यात्रियों की डीएमओ डॉ. अनिल कुमार के नेतृत्व में मौजूद मेडिकल टीम के द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग की गई। सीटीटीआई यूपी सिंह और प्रधान टिकट परीक्षक रंजीत सिंह के नेतृत्व में मौजूद टीटीई ने टिकट जांच करते ट्रेन के अंदर प्रवेश करने की अनुमति दी। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए इंस्पेक्टर सारनाथ, थानाध्यक्ष आलोक प्रताप सिंह, नीलेश कुमार सिंह (एसआईबी), रमेश सिंह मुस्तैद थे।

दोगुना मिलेगा वेतन : कोरोना संक्रमण के बाद लॉकडाउन से बदली परिस्थिति ने परदेस बुलाए जा रहे मजदूरों की कमाई की राशि दोगुनी कर दी है। ठेकेदार मंटून कुमार पौद्दार ने कहा कि फ्लाई ओवर निर्माण कार्य में पहले महीने में प्रति मजदूर 10 से 12 हजार रुपए वेतन/मजदूरी राशि दी जाती थी। अब हर मजदूर को 20 हजार रुपए मिलेंगे।

परिवार छोड़ कौन जाना चाहता है बाबू...काम मिले तो सही : कमाने मध्य प्रदेश के रतलाम जा रहे मजदूरों का कहना था कि परिवार छोड़ कौन परदेस जाना चाहता है बाबू...। सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड के हिन्दुपुर गांव निवासी बजरंगी कुमार ने कहा कि एतय नैय मिलले काम। आब एमपी मय जाय कैय कमेबे आओर घर पैसा भेजबे। सलखुआ के कटघरा पुर्नवास के राजेश मिस्त्री और गोविन्द कुमार ने कहा कि परिवार और अपने पेट की खातिर कमाने जा रहे हैं। सलखुआ के नवटोलिया के श्यामसुंदर कुमार ने कहा कि रोजगार का साधन यहां रहता तो नहीं जाते।

थ्री एसी में बैठ कर निकल पड़े परदेस : मध्य प्रदेश के रतलाम में कमाने जा रहे सभी 14 मजदूर सहरसा-नई दिल्ली स्पेशल ट्रेन वैशाली एक्सप्रेस के थ्री एसी कोच (बी वन) में सवार हुए। दिल्ली से आगे का भी उनलोगों का एसी कोच में ही आरक्षित टिकट बना था। मजदूरों का कहना था पहली बार एसी कोच में सफर करने को मिला है, वह भी मुफ्त में। टिकट की राशि उनके मालिक द्वारा दी गई थी। ट्रेन में सफर करने वाले कई अन्य यात्रियों ने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर बदले हालात का यह परिणाम है कि मजदूरों को बुलाने के लिए टिकट राशि कंस्ट्रक्शन कंपनी, फैक्ट्री और खेत मालिक खर्च कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि ट्रेन के अलावा पंजाब, हरियाणा राज्य से बसों को भेजकर मजदूरों को ले जाया जा रहा है। बीते दस जून को बस स्टैंड से बुक हुई बस मजदूरों को लेकर अहमदाबाद गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:AC workers were sent to call the workers from Saharsa