The projector is licking the smart classes of Purnia College - पूर्णिया कॉलेज के स्मार्ट क्लासेस में धूल चाट रहा है प्रोजेक्टर. DA Image
14 दिसंबर, 2019|5:22|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्णिया कॉलेज के स्मार्ट क्लासेस में धूल चाट रहा है प्रोजेक्टर.

default image

कहते हैं कि खंडहर ही बताता है कि इमारत की नींव कितनी बुलंद होगी। मगर वर्ष 1811 में बने पामर हाउस में संचालित पूर्णिया कॉलेज की स्थिति इससे अलग है। पूर्णिया कॉलेज का इतिहास तो गरिमामय है, मगर वर्तमान में शैक्षणिक व्यवस्था सवालों के कटघरे में हैं। 208 वर्ष पूर्व बने पामर हाउस वर्तमान में पूर्णिया कॉलेज से सटे तीस वर्ष पुराने खंडहरनुमा भवन में पूर्णिया विश्वविद्यालय द्वारा संचालित स्मार्ट क्लासेस व्यवस्था में विसंगतियों की पोल खोल रहा है। स्मार्ट क्लासेस के लिए दस कक्षाओं में प्रोजेक्टर तो महीनों पूर्व लग गया है, लेकिन प्रोजेक्टर पर पढ़ाई छात्र व छात्राओं के लिए अभी भी दिवास्वप्न ही बना हुआ है। खुद पूर्णिया कॉलेज के प्राचार्य डॉ. मिथिलेश मिश्र बताते हैं कि अधिकांश शिक्षकों को प्रोजेक्टर के माध्यम से कक्षा संचालन की जानकारी नहीं है, इसी वजह से प्रोजेक्टर के द्वारा नहीं की जा रही है। जिन शिक्षकों को प्रोजेक्टर का ज्ञान है, वे पढ़ाते हैं, जिन्हें ज्ञान नहीं है वे नहीं पढ़ाते हैं।

स्मार्ट क्लासेस में ब्लैक बोर्ड पर हो रही पढ़ाई

पूर्णिया कॉलेज परिसर में तीस वर्ष पुरानी खंडहरनुमा इमारत में स्मार्ट क्लासेस शुरू की गयी है, जिसमें प्रोजेक्टर के माध्यम से पढ़ाई के लिए हर जरूरी संसाधन उपलब्ध हैं। स्मार्ट बोर्ड के साथ साउंड की भी व्यवस्था की गयी है। मगर प्रोजक्टर के माध्यम से कक्षा संचालन करने वाले शिक्षकों का सवर्था अभाव है। कमी भी ऐसी की कई विषयों के छात्र व छात्रों का प्रोजेक्टर के माध्यम से पढ़ना अभी तक सपना ही बना हुआ है। पूर्णिया कॉलेज के छात्र अभिषेक बताते हैं कि पूर्णिया विवि के द्वारा पूर्णिया कॉलेज में शुरू की गयी स्मार्ट क्लासेस की स्थापना में प्रो. एके पांडेय ने अहम भूमिका निभायी थी, मगर उनका स्थानान्तर धमदाहा सांझाघाटा स्थित कॉलेज कर दिया गया। प्रो. एके पांडेय पूर्णिया कॉलेज के परीक्षा नियंत्रक भी रह चुके हैं, उनके पूर्णिया कॉलेज से चले जाने से स्मार्ट क्लासेस की व्यवस्था पूरी तरह ठप पड़ गयी। अधिकांश शिक्षकों को ही प्रोजेक्टर से पढ़ाने का ज्ञान नहीं है, ऐसी स्थिति में प्रोजेक्टर से पढ़ाएगा कौन? प्रोजेक्टर व स्मार्ट बोर्ड के बगल में दीवाल पर लगे ब्लैक बोर्ड पर ही पढ़ाया जा रहा है। ब्लैक बोर्ड भी ऐसी है कि जगह-जगह गढ्ढे बने हुए हैं। वहीं पूर्णिया कॉलेज छात्र संघ के निवर्तमान अध्यक्ष करण यादव कहते हैं कि पूर्णिया कालेज में स्मार्ट क्लासरूम नाममात्र का ही रह गया। उद्घाटन के बाद पूर्णिया कॉलेज के छात्र व छात्रों को एक सौगात के रूप में स्मार्ट क्लास मिला लेकिन स्मार्ट क्लास का उपयोग छात्र हित में कभी हुआ ही नहीं। स्मार्ट क्लास के स्मार्ट बोर्ड व प्रोजेक्टर सिर्फ दिखावा है। स्मार्ट क्लासेसे में उबड़-खाबड़ ब्लैक बोर्ड पर पढ़ाई की जा रही है। उन्होंने बताया कि जर्जर दीवाल का ही कालीकरण कर दिया गया है। इससे छात्र व छात्राओं को काफी परेशानियों का करना पड़ता है। स्मार्ट क्लास चलाने के लिए ट्रैड शिक्षक की भी कमी है। कई ऐसे विषय हैं, जिसमें शिक्षकों की काफी कमी है। इतिहास, भूगोल, मनोविज्ञान, दर्शन शास्त्र होम साइंस औार कॉमर्स के शिक्षकों का अभाव है, जिसके कारण यूजी की कक्षाओं का नियमित संचालन नहीं हो पा रहा है।

कॉलेज में शिक्षकों की कमी से पीयू है अवगत

पूर्णिया कॉलेज के प्राचार्य डॉ. मिथिलेश मिश्र बताते हैं कि पूर्णिया कॉलेज में स्मार्ट क्लासेस का संचालन प्रोजेक्टर से नहीं हो रहा है, इसकी जानकारी पूर्णिया विश्वविद्यालय प्रशासन को हैं। प्रशिक्षित शिक्षकों के अभाव से पीयू अवगत है। इधर पूर्णिया कॉलेज के बड़ा बाबू अवधेश सिंह बताते हैं कि पूर्णिया कॉलेज प्रशासन ने पूर्णिया विश्वविद्यालय को हर वस्तुस्थिति से अवगत करा दिया है। मगर अभी तक कोई पहल नहीं हुई हैं।

वर्ष 1811 में बना पामर हाउस का है रोचक इतिहास

पूर्णिया कॉलेज का मुख्यभवन अंग्रेजी हकुमत काल में सन 1811 में निर्मित है। चार्ल्स पामर ने इस विशाल कोठी का निर्माण कराया, जिसका नाम पामर हाउस रखा। चार्ल्स पामर के पिता विलियम पामर फौज में लेफ्टिनेंट थे और उन्होंने मुस्लिम युवती फैज बख्श के साथ शादी की थी। चार्ल्स पामर ने पिता के नाम पर 208 वर्ष पूर्व पामर हाउस की इमारत बनायी थी। वर्तमान में पामर हाउस खंडहर होने के बाद भी शिक्षा का अलख जगा रहा है। अंग्रेजी शासनकाल के बाद से अब तक शैक्षणिक व्यवस्था का मूक गवाह बना हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The projector is licking the smart classes of Purnia College