DA Image
23 नवंबर, 2020|3:16|IST

अगली स्टोरी

लॉक डाउन हटने के बाद भी नही सुधरी फूल व्यवसायियों और किसानों की माली हालत

default image

लॉकडाउन हटने के बाद द फुल व्यवसायियों और किसानों की माली हालत में कोई सुधार नहीं हो पाया है । कई फुल व्यवसाई तो अब कर्ज में डूब गया है और उनकी दुकानें अब बंद होने के कगार पर है । विधानसभा चुनाव के दौरान ऐसे फुल व्यवसायियों को उम्मीद थी कि उनके दिन बहू रेंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ । हालांकि इस साल भी लग्न का समय शुरू हो गया है । लेकिन जिस अनुपात में फूल की डिमांड होनी चाहिए वह नहीं हो पा रहा है । शहरी क्षेत्रों में किराए की दुकान लेकर फूल की दुकान चलाने वाले दुकानदारों की स्थिति काफी गंभीर होती जा रही है। बताया जाता है कि 8 महीनों के दौरान दुकानों का किराया नहीं दिया गया है। कुछ फूल की दुकान तो बंद हो गए लेकिन जो भी खुला हुआ है उनकी स्थिति काफी बदतर होती जा रही है । कुछ प्रतिशत ही फूलों की बिक्री शहरी क्षेत्रों में हो पा रही है । बताया जाता है कि इस व्यवसाय से कई पुल के कारीगरों ने अपना मुंह मोड़ कर दूसरा व्यवसाय और धंधा करने लगा है। लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद भी फूल व्यवसायियों के माली हालत में कोई सुधार नहीं हो पा रहा है। सरकार के द्वारा भी ऐसे फूल के किसानों और व्यवसाय के ऊपर कोई ध्यान नहीं दिए जाने की वजह से इनकी माली हालत काफी खराब होती जा रही है। भट्टा बाजार में फूल की दुकान करने वाले सुब्रत दादा ने बताया कि वह पिछले 24 साल से फूल की दुकान बाजार में कर रहे हैं । लेकिन जीवन में पहली बार इस तरह की स्थिति उनके सामने आई है । उन्होंने बताया कि लॉक डाउन होने के बाद काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा । लेकिन जब लॉकडाउन हटा तो उन्हें उम्मीद थी कि उनकी बहू रेंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हो पा रहा है । उन्होंने बताया कि विधानसभा चुनाव के दौरान उन्हें उम्मीद थी कि काफी बिक्री फूलों की होगी । लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हालांकि अब भी उम्मीद जता रहे हैं कि इस बार लग्न के महीने में उनकी कमाई होगी । लेकिन उन्होंने बताया कि देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि इस बार का लग्न भी फीका ही जाएगा । इसी तरह फूल की खेती करने वाले बेलौरी के रहने वाले अमित ने बताया कि उनकी स्थिति काफी गंभीर है कई एकड़ में फूल की खेती खेत में खड़ा हो गया कोई लेने वाला नहीं मिला।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The financial condition of flower traders and farmers has not improved even after the lock down is removed