The country will run through the Constitution not the NRC and CAA - देश संविधान से चलेगा, एनआरसी और सीएए से नहीं. DA Image
17 फरवरी, 2020|10:04|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश संविधान से चलेगा, एनआरसी और सीएए से नहीं.

default image

देश जब समान शिक्षा मांगने लगा, समान स्वास्थ्य मांगने लगा, रोजगार मांगने लगा और महंगाई से छुटकारा चाहने लगा तो सरकार ने एनआरसी और सीएए का झुनझुना पकड़ा दिया। जिला पार्षद राजीव सिंह ने ये बातें लाइन आजार में 19वें दिन जारी धरना में कही।

लाइन बाजार हसीब कांप्लेक्स में एनआरसी और सीएए के खिलाफ 19 दिनों से धरना जारी है। शुक्रवार को माकपा नेता सह जिला पार्षद राजीव सिंह धरना में हिस्सा लेने पहुंचे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि हमारा देश संवैधानिक देश है। ये संविधान के अनुसार चलेगा। किसी के कहने से ये एनआरसी और सीएए के अनुसान नहीं चलेगा। ये देश शहीद भगत सिंह का देश है, अब्दुल कलाम और अश्फाक का देश है। यहां पर हर धर्म और जाति के लोग साथ रहते आएं हैं और रहते रहेंगे। केंद्र सरकार इस कानून के सहारे लोगों को मूल मुद्दे से भटका रही है। लोग जब रोजगार मांगने लगे, महंगाई से छुटकारा चाहने लगे तो केंद्र सरकार एनआरसी का राग आलापने लगी है। घरना का नेतृत्व कर रहे तनवीर मुश्तफा ने कहा कि हम तब तक विरोध करेंगे जब तक सरकार इस कानून को वापस नहीं ले लेती है। डॉ शफीक आलम ने कहा कि सरकार जब शिक्षा ने दे सकी, स्वास्थ्य की सुविधा नहीं दे सकी तो एनआरसी दे दिया कि उलझे रहो।

इस मौके पर नुजहत आफरीन, हिना अहमरीन, शादमान, जुबैदा खातून, जहां आरा, अफसाना, हिना कौसर, नाजिया परवीन, डॉ शहजाद, नियाज़ अहमद, इरशाद पूर्णवी, शम्श कमर, शाजिद रज़ा और तनवीर मुश्तफा मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The country will run through the Constitution not the NRC and CAA