ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार पूर्णियासात नाबालिग लड़कियां भेजी गई बालिका गृह

सात नाबालिग लड़कियां भेजी गई बालिका गृह

पूर्णिया। हिन्दुस्तान संवाददाता 10 साल के दौरान सीमांचल के पूर्णिया , अररिया , कटिहार...

सात नाबालिग लड़कियां भेजी गई बालिका गृह
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,पूर्णियाMon, 30 Aug 2021 09:50 PM
ऐप पर पढ़ें

पूर्णिया। हिन्दुस्तान संवाददाता

10 साल के दौरान सीमांचल के पूर्णिया , अररिया , कटिहार के जिले में देह व्यापार में देह व्यापार के आरोप में जेल गए लोगों के जमानतदार बनने का काम खुश्कीबाग कटिहार मोड़ के रहने वाले कुख्यात मानव तस्कर अकबर खलीफा और उनका भांजा रुस्तम आलम उर्फ बुद्धन खलीफा बना है। इस बात का खुलासा तब हुआ जब इस मामले को लेकर एक कमेटी के सदस्यों के द्वारा दोनों मामा-भांजा के कुंडली खंगाली जा रही है। बताया जाता है कि अक्सर देह व्यापार के आरोप में जेल गए आरोपियों के जमानत करवाने से लेकर दोबारा उन्हें दोबारा धंधा में शामिल करवाने तक का जिम्मा दोनों मामा भांजा के द्वारा लिया जाता है । इस गैंग में कई अन्य लोग शामिल हैं । यही वजह है कि दोनों के मुख्य करीबी सदस्य गोविंदा और मोनू आलम उर्फ मोनू खलीफा को भी पुलिस ने इस बार नामजद अभियुक्त बनाया है। चारों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीम के द्वारा छापेमारी की जा रही है। सूत्रों की माने तो एक बार फिर से मामला दर्ज होने के बाद मामा भांजा जमानत लेने की फिराक में जुट गया है। पुलिस की टीम काफी सरगर्मी से दोनों को ढूंढ रही है। इस गैंग में अररिया जिला के बिशनपुर के रहने वाले रुस्तम आलम उर्फ बुद्धन खलीफा का जीजा भी सहयोग करता है और पुलिस की टीम अब उनकी भी तलाशी कर रही है। सदर एसडीपीओ आनंद कुमार पांडे ने बताया कि अकबर खलीफा और उनके भांजे रुस्तम आलम उर्फ गुड्डन खलीफा गोविंदा और मोनू आलम की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीम के द्वारा छापेमारी की जा रही है । तफ्तीश के दौरान कई अन्य चौंकाने वाले तथ्य मिले हैं, जिसके आलोक में पुलिस की टीम के द्वारा काम की जा रही है।

नाबालिग लड़कियों को भेजा गया बालिका गृह

छापेमारी के दौरान बरामद की गई कटिहार मोड़ रेड लाइट एरिया और रानीपतरा आगा टोला से सातों नाबालिक लड़कियों को न्यायालय में 164 का बयान करवाने के बाद पूर्णिया सिटी स्थित बालिका गृह नारी गुंजन में भेज दिया गया है । चाइल्डलाइन टीम के समन्वयक मयूरेश गौरव और सदर थाना के एसआई मुकेश कुमार देव ने बताया कि सातों नाबालिग लड़कियों का 164 का बयान मेडिकल करवाने के बाद न्यायालय में करवाया गया था । न्यायालय के आदेश के बाद सभी नाबालिग बच्चियों को पूर्णिया सिटी नारी गुंजन स्थित बालिका गृह में भेज दिया गया है। बता दें कि छापेमारी के बाद बरामद की गई सातों लड़कियों ने पूछताछ कर रही टीम के सदस्यों के समक्ष कई चौंकाने वाले बात बताया था। इसके बाद महिला थाना के प्रभारी थानाध्यक्ष किरण कुमारी के द्वारा जब 161 का बयान लिया जा रहा था तो उसमें भी बच्चों ने काफी चौकाने वाली बात पुलिस टीम के सदस्यों को बताया था।

पलक झपकते ही सदर थाना के मुख्य गेट से फरार हो गया था बुद्धन

छापेमारी के बाद जब सदर एसडीपीओ आनंद कुमार पांडे , सदर थानाध्यक्ष मधुरेंद्र किशोर नई दिल्ली के एनजीओ टीम के प्रोग्राम पदाधिकारी बी सरकार समेत अन्य पदाधिकारी सदर थाना में मौजूद थे कि कुख्यात मानव तस्कर अकबर खलीफा का भांजा रुस्तम आलम उर्फ बुद्धन खलीफा अपने दोस्तों के साथ सदर थाना के मुख्य गेट पर आ गया था। पुलिस को इस आशय की गुप्त सूचना मिली । पुलिस की टीम उन्हें पकड़ने के लिए घेराबंदी कर ही रही थी कि वह अंधेरा का फायदा उठाकर फरार हो गया। बताया जाता है कि पुलिस की टीम के द्वारा उनका पीछा भी किया गया। लेकिन फिर वह अपने बाइक सवार सहयोगीयों के साथ पूर्णिया की तरफ भाग गया।

किशनगंज जिले में युवती की मौत मामले में भी मामा-भांजा का नाम आया था सामने

एक माह पहले बिहार पश्चिम बंगाल के बॉर्डर पर स्थित अंगद रेड लाइट एरिया में एक युवती की संदेहास्पद स्थिति में मौत हो गई थी। इस घटना के बाद काफी बवाल मचा था। इसके बाद किशनगंज जिले की पुलिस के द्वारा उक्त युवती का पोस्टमार्टम कराया गया था। बताया जाता है कि उक्त लड़की मधुबनी जिले की रहने वाली थी और उन्हें बहला फुसलाकर पहले पूर्णिया लाया गया था। फिर वहां से उन्हें अनगढ़ स्थित रेड लाइट एरिया में बेच दिया गया था। इस मामले में भी अकबर खलीफा और उनके भांजे का नाम आया था। पुलिस की टीम के द्वारा दोनों की गिरफ्तारी के लिए अनगढ़ स्थित रेड लाइट एरिया में छापेमारी भी की गई थी। लेकिन दोनों वहां से फरार हो गया था , और कुछ दिनों से पुर्णिया स्थित कटिहार मोड़ और रानी पतरा के आगा टोला में आकर दोनों मामा भांजा ने शरण ले लिया था।

epaper