Sajti Chhath Mayya Dali from the fruits of many states - कई राज्यों के फलों से सजती छठ मईया की डाली DA Image
10 दिसंबर, 2019|5:21|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कई राज्यों के फलों से सजती छठ मईया की डाली

कई राज्यों के फलों से सजती छठ मईया की डाली

महापर्व छठ भले ही बिहार के लोगों के आस्था से जुड़ा माना जाता हो लेकिन एक सच यह भी है कि लोक आस्था के इस पर्व की डाली और सूप देश के अन्य राज्यों के फलों से सजती है।

नागपुर का संतरा, पंजाब का केनू, आंध्रप्रदेश, चिन्नई के अलावा असम का नारियल, पश्चिम बंगाल का खूशबूदार चंपा केला का खास स्थान रहता है। गन्ना, शकरकंद, अलुआ, सूथनी, आदी, हल्दी सहित कई और प्रसाद बिहार के विभिन्न क्षेत्रों से उपलब्ध हो जाता है।

ऐसा पर्व जिसमें देश की पूरी संस्कृति झलकती है। बिहार के छठ पर कई राज्यों के कारोबारियों की नजर साल भर से टिकी रहती है। दशहरा समाप्त होते ही नारियल से भरे ट्रेकों का खेप पूर्णिया सहित बिहार के कई मंडियों में आध्र प्रदोश, चिन्नई, केरल और असम से पहुंचना शुरू हो जाता है। एक सर्वेक्षण के अनुसार पूर्णिया में अब तक 200 ट्रक से अधिक नारियल बिक चुका है। एक ट्रक में करीब 20 हजार से अधिक नारियल आता है। नारियल की संख्या से ही ट्रकों का भाड़ा निर्धारित होता है। खुश्कीबाग फल मंडी के एक कारोबारी अम्मार ने बताया कि पिछले वर्ष कई नये करोबारी के आ जाने से बाजार में काफी संख्या में नारियल आ गया था इस वजह से इसके भाव काफी गिरा कर बेचना पड़ा। लेकिन इसबार व्यापारी संभल कर माल मंगा रहे हैं। यही कारण है कि इसबार नारियल का भाव पिछले वर्ष के अनुसार चढ़ा है। एक अनुमान के अनुसार इसबार पूर्णिया जिले में करीब 14 करोड़ से अधिक का अकेले नारियल फल छठ मईया के प्रसाद के रूप में चढ़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sajti Chhath Mayya Dali from the fruits of many states