Purna Shankaracharya gave the information of Gurukul tradition to the youth in the message of religion - पूरी शंकराचार्य ने धर्म संदेश में युवाओं को गुरुकुल परम्परा की दी जानकारी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूरी शंकराचार्य ने धर्म संदेश में युवाओं को गुरुकुल परम्परा की दी जानकारी

गोवर्द्धन मठ पुरी के जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती महाराज ने अपने पूर्णिया प्रवास के तीसरे दिन द्वारा जिला स्कूल रोड स्थित वीरेन्द्र मोहन ठाकुर के आवास पर चरण पादुका पूजन तथा धर्म संगोष्ठी का कार्यक्रम में धर्म संदेश से जुड़े कई अहम जानकारी दी। उन्होंने अपने संदेश में सनातन धर्म का व्याख्यान किया। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म को हिन्दुओं को समझने और जानने की जरूरत है। इसे आज भी हिन्दु समाज पूरी तरह से जान और समझ नहीं सका है। उन्होंने अपने संदेश में शिक्षा के स्वरुप गुरुकुल परम्परा पर विस्तृत व्याख्यान दिए और कहा कि वर्तमान की शिक्षा पद्वति से युवा सुसंस्कृत नहीं हो रहे हैं। इस पद्वति में हम अपने सभ्यता संस्कृति से दूर होते जा रहे हैं। इस शिक्षा पद्वति में आईएस आईपीएस जरूर बन रहे हैं। मगर इनके विचार धारा सभ्यता संस्कृति के अनुकुल नहीं है। इसलिए इन बातों को भी समझने की जरूरत है। उन्होंने युवाओं को गुरुकुल परम्परा की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आज युवा अपनी सभ्यता को भुलते जा रहे हैं। माता पिता के प्रति सेवा का भाव समाप्त होता जा रहा है। इसलिए युवाओं को इन बातों को समझने और जानने की जरूरत है। इस मौके पर मौजूद लोगों ने प्रश्नोतरी काल के दौरान रामजन्म भूमि , सनातन धर्म समेत कई सवाल किए। इन सवालों को उन्होंने कई तर्कपूर्ण रूप से जवाब दिया और कहा कि धर्म संदेश को जानिए। अंत में मौके पर मौजूद कई श्रद्वालुओं ने दीक्षा भी लिया। दो बजे के करीब संगोष्ठी कार्यक्रम समापन के बाद लगभग पांच बजे पूर्णिया से कटिहार के लिए रवाना हो गए। विदित हो कि पूरी शंकराचार्य 24 मई को फारबिसंगज होकर आये थे। उनके आगमन पर पूर्णिया से उनके स्वागत में सैकड़ों कार्यकर्ता लगे हुए थे। इस दौरान उनका जगह जगह स्वागत किया गया। रात्री प्रवास उनका जिला स्कूल रोड स्थित वीरेन्द्र मोहन ठाकुर के निवास स्थल पर हुआ। दूसरे दिन 25 मई को इसी स्थल पर संगोष्ठी, चरण पादुका और धर्म संदेश के बादशाम 5 बजे श्रीधाम सेवा समिति मन्दिर के मुख्य प्रांगण में धर्म सभा की गई। इस दौरान कई संस्थानों के सदस्यों ने उनका स्वागत किया। 26 मई को पून: जिला स्कूल रोड स्थित अनन्त भारती के निज निवास पर संगोष्ठी, चरण पादुका कार्यक्रम और धर्म संदेश और विज्ञान की जानकारी के बाद देर शाम कटिहार के लिए रवाना हो गए। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में पूर्णिया सिटी स्थित सराय दुर्गा मंदिर समिति के तिवारी बाबा, शंकराचार्य कार्यक्रम प्रभारी प्रेमचन्द्र झा, अनन्त भारती, सुमित प्रकाश समेत कई सदस्य लगे हुए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Purna Shankaracharya gave the information of Gurukul tradition to the youth in the message of religion