DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  पूर्णिया  ›  किसान बेचारा, पहले यास ने मारा, अब धूप-छांव का हारा
पूर्णिया

किसान बेचारा, पहले यास ने मारा, अब धूप-छांव का हारा

हिन्दुस्तान टीम,पूर्णियाPublished By: Newswrap
Wed, 02 Jun 2021 05:30 AM
किसान बेचारा, पहले यास ने मारा, अब धूप-छांव का हारा

पूर्णिया। हिन्दुस्तान टीम

किसान बेचारा। पहले यास ने मारा। अब धप-छांव का हारा। पूर्णिया में एक सप्ताह से मौसम के बदलते मिजाज ने मक्का किसानों के सामने नई समस्या उत्पन्न कर दी है । जिला के सभी 14 प्रखंडों में किसान मक्का सुखाने में व्यस्त हैं। कोई दरवाजे पर कोई आंगन में तो कोई खेल खलिहान में मक्का सुखा रहा है। जिसके जगह नहीं मिलती वह गांव की सड़कों पर ही सुख रहा है। इस बीच धूप-छांव के खेल के कारण उनका कलेजा कांपते रहता है। रूपौली, धमदाहा, बनमनखी, कसबा, श्रीनगर, चंपानगर, केनगर, मीरगंज व भवानीपुर में ऐसे किसान जो मक्का को समेट नहीं पाए वह मौसम के चक्कर में उलझ गए। उन्हें मेहनत तो करनी ही पड़ रही है। मक्के के कम भाव मिलने की चिंता भी सता रही है।

दाना खराब, कम मिलेगा भाव

रुपौली। एक संवाददाता

मक्का की खेती प्रखंड में किसानों के द्वारा बड़े पैमाने पर की जाती है। प्रखंड क्षेत्र के दर्जनों किसानों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों हुई लगातार तेज बारिश ने किसानों के सोने की भाव में बिकने वाली मक्के की फसल जो खेतों में काट कर तैयार करने को रखा गया है उसे काफी नुकसान पहुंचाया है। बारिश का पानी खेत में लग जाने से मक्का का दाना खराब होने की समस्या उत्पन्न हो गई है जिसे वजन पर भी प्रभाव पड़ेगा और दाम भी कम मिलेगा। उन्होंने बताया कि इस बार मक्का को तैयार करने में श्रमिक ज्यादा लग रहे हैं ,क्योंकि बार-बार मौसम अपना मिजाज बदल रहा है। किसानों ने बताया कि मक्का को सुखाने के लिए कड़ी धूप की जरूरत है। मगर मौसम दगा दे रहा है। धूप छांव का खेल चल रहा हैं, जिसके कारण किसानो को काफी परेशान हो रही है।

मक्का सुखाने में व्यस्त हुए किसान

हरदा। संवाद सूत्र

हरदा में भी दर्जनों गांवों में किसान मक्का सुखाते नजर आ रहे हैं। इस इलाके के अधिकांश किसानों ने मक्के के फसल को समेट लिया था, लेकिन देर से खेती करने वाले मौसम के चक्कर में फंस गए। पहले तो खेत में मक्का डूबा। जब घर लेकर आए तो बारिश ही पीछा नहीं छोड़ रही है। अब धूप-छांव का खेल हो रहा है। इससे किसान परेशान हैं। आज धूप निकली तो कई किसान मक्के को मैदान में सुखाते नजर आए।

नुकसान का मिले मुआवजा

रानीपतरा। संवाद सूत्र

पूर्णिया पूर्व प्रखंड के जिला परिषद सदस्य संजीव कुमार उर्फ विवेका यादव ने डिमिया छत्रजान, बियारपुर,लालगंज,कवैया, हरदा आदि पंचायत का भ्रमण कर यास तूफान के कारण हुए किसानों के फसल क्षति एवं जलजमाव की समस्या से अवगत होने के बाद मुआवजे की मांग की है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष इस क्षेत्र के हजारों किसानों को बाढ़ व सुखाड़ से काफी नुकसान होता है। यास के कारण किसानों के मकई और धान की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई है। मिर्ची, परवल,करेला,भिंडी,घेरा बिन्स व अन्य सब्जी की खेती पूरी तरह इस तूफान की भेंट चढ़ गया है।

संबंधित खबरें