DA Image
21 जनवरी, 2021|2:20|IST

अगली स्टोरी

आधी और बारिश ने मचायी तबाही.

default image

धमदाहा प्रखंड अंतर्गत मीरगंज समेत आस पास के क्षेत्रों में सोमवार की आंधी पानी ने जमकर कहर बरपाया। अचानक आये आंधी के साथ पानी से लाखों का नुकसान हुआ । ग्रामीण इलाकों में दर्जनो झोपडियों एवं टीन के बने उड़ गए। मक्का, लीची, केला एवं आम की फसलों का व्यापक नुकसान हुआ है। कुदरत की कहर से किसानों के समक्ष विकट समस्या उत्पन्न हो गयी है। किसानों ने बताया कि पिछले वर्ष की तुलना इस बार मक्का की अच्छी फसल थी। लेकिन आंधी एवं पानी ने सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। मुसलाधार बारिश ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया। बाजार से लेकर गांव की सड़कें पर जलजमाव और कीचड़मय हो गई है। जिस वजह से आम राहगीरों के साथ साथ स्थानीय लोगों ने भी पानी व कीचड़ युक्त सड़क से होकर आने-जाने में काफी परेशानियों का सामना कर रहे है। बाजार में पानी की निकासी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने से सड़कों पर जगह-जगह पानी जमा हो गया है। वहीं जगह जगह पड़े कचडे का ढेर एवं गंदगी लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। दूसरी ओर बाजार में पानी निकासी की समुचित व्यवस्था नहीं होने से पानी में पड़े कचड़े के कारण इतनी बदबू आती है कि संक्रामक रोग के फैलने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है।बेमौसम बारिश की वजह से घरों से नहीं निकले। आलम यह रहा कि लोग आवश्यक सामग्री की खरीददारी के लिए भी बहुत कम लोग अपने घरों से निकले। इस कारण शाम के समय भी सड़कों पर सन्नाटा पसरा ।