DA Image
31 अक्तूबर, 2020|3:50|IST

अगली स्टोरी

देह व्यापार के दलदल में जाने से बची बच्ची.

default image

पूर्णिया में मुंगेर की एक बच्ची को देह व्यापार के दलदल में फंसने से बच गई। चाइल्ड लाइन ने बच्ची को सोमवार की देर रात्रि बरामद कर अपने संरक्षण मे ले लिया। जानकारी के मुताबिक सोमवार की देर रात्रि चाइल्ड लाइन को सूचना मिली कि आस्था मंदिर प्रांगण में एक भटकती हुई बच्ची मिली है। जानकारी मिलते ही चाइल्ड लाइन के प्रभारी कोऑर्डिनेटर मयूरेश गौरव अपनी पूरी टीम के साथ बच्ची के पास पहुंचे। जिसके बाद मंगलवार को काउंसलिंग के दौरान पता चला कि नाबालिग मुंगेर की रहने वाली है और वह घर मोबाइल ठीक कराने निकली थी। लेकिन किसी महिला के बहकावे में आकर वह पूर्णिया पहुंच गई। यहां पहुंचते ही बच्ची महिला के हरकत को पहचान गयी और मौका देखकर महिला का साथ छोड़ दिया। और आस्था मंदिर पूर्णिया में शरण ले लिया।

चाइल्डलाइन के प्रभारी कोडिनेटर मयूरेश गौरव ने बताया कि स्थानीय लोगों द्वारा सूचना दी गई कि सोमवार रात्रि करीब 11 बजे सूचना दिया गया कि आस्था मंदिर में एक भटकती हुई बच्ची है। सुचना मिलते ही चाइल्ड लाइन टीम के साथ आस्था मंदिर पहुंच कर बच्ची को अपने संरक्षण में लेकर सहायक खंजाची थाना पहुंचे और सनहा दर्ज कराया गया। मंगलवार की सुबह बच्ची का सदर अस्पताल में थर्मल स्क्रीनिंग करने के बाद काउंसलिंग के दौरान बच्ची ने बताया कि उनकी उम्र13 वर्ष है। हम सोमवार को घर से मोबाइल ठीक कराने निकले थे। रास्ते में एक महिला बोली चलो हम तुम्हारा मोबाइल ठीक करवा देंगे। महिला बहला-फुसलाकर उसे पूर्णिया ले आई और बोली हम तुमको अपना बेटी बनाकर रखेंगे। हमें बोला तुम रुको हम आ रहे हैं और हम वहां से निकल गए। बच्ची अपना घर का पता मुंगेर बतायी। बच्ची के पास एक जिओ मोबाइल सेट, चांदी का चेन लॉकेट, 178 रुपया बच्ची के पास में है। मयूरेश गौरव ने बताया कि बच्ची अभी डरी सहमी है। बच्चे के मोबाइल से उनके परिजन से संपर्क किया गया है। परिजन ने बताया कि मोबाइल ठीक कराने बाजार गई थी और वही से लापता हो गई। हमलोग काफी खोजबीन की लेकिन कुछ पता नहीं चल रहा था। चाइल्ड लाइन के बच्ची को बाल कल्याण समिति में प्रस्तुत किया गया समिति के निर्देशानुसार बच्ची को तत्काल बालिका गृह में आश्रय दिया गया। इस मौके पर प्रभारी कोऑर्डिनेटर मुकेश कुमार, खुशबू रानी लवली सिंह, रूबी रानी आदि सदस्य मौजूद थे।

पूर्व में चाइल्ड लाइन ने बताया है

इसके पूर्व भी 18 मई को नवगछिया के श्रीपुर गांव की रहने वाली 10वी की छात्रा भी इसी तरह पूर्णिया पहुंची थी। उसे भी स्थानीय लोगो के द्वारा चाइल्ड लाइन को सूचना देकर बच्ची को देह व्यापार के दलदल में फंसने से बचाया था।

कई लड़कियां बन चुकी है दलालों की शिकार

पूर्णिया के विभिन्न देह व्यापार मंडी के दलालों द्वारा लगातार दूसरे जिले से नाबालिक एवं बालिग लड़कियों को बहला-फुसलाकर देह व्यापार मंडी लाने का लगातार सिलसिला जारी है। इस दौरान कई लड़कियां दलदल में फंस चुकी है, कई युवती मौका देख रास्ते से ही फरार हो जाती है। जो रास्ते से फरार नही हो सके तो दलदल में फंसना तय है। पूर्णिया के देह व्यापार मंडी के लोग अभी कई जिलों में घुम घुम कर अकेली युवती या नाबालिग को बहला फुसला कर पूर्णिया व दालकोला आदि जगह लेकर जाते है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Girl child saved from going into body trade