For nine months there is waiting for development - नौ माह से विकास की बाट जोह रहा मौजमपट्टी. DA Image
13 दिसंबर, 2019|10:57|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौ माह से विकास की बाट जोह रहा मौजमपट्टी.

default image

बीकोठी थाना क्षेत्र के रघुवंश नगर ओपी अंतर्गत मौजमपट्टी गांव में फरवरी और मार्च में हुई गोलीबारी बमकांड में ट्रिपल मर्डर के बाद गौरीपुर पंचायत का विकास कार्य ठप हो गया है। तमाम कवायदों के बावजूद भी इस पंचायत का विकास कार्य गति नहीं पकड़ रहा है, जबकि प्रखंड से लेकर जिला स्तर तक के पदाधिकारी समय-समय पर निर्देश भी दे रहे हैं। बता दें कि गौरीपुर पंचायत की मुखिया राजकिशोर यादव उर्फ बुच्चन यादव की पत्नी नीलम देवी हैं। पति बुच्चन यादव और उनके दोनों पुत्र पर हत्या का मुकदमा दर्ज होने के बाद वह भी घर से गायब हैं। कभी कभार यदि वह गांव आती भी हैं तो पंचायत में होने वाले विकास कार्यों से उन्हें कोई लेना देना नहीं होता है। मौजमपट्टी गांव के रहने वाले लोगों का कहना है कि मुखिया नीलम देवी जब घर पर रहती हैं तो पुलिस उनके बड़े पुत्र फरार चल रहे सौरभ साहिल को खोजने के लिए उनके घर पर आते हैं और उन पर पुत्र को पकड़वाने के लिए दबाव बनाया जाता है, इसलिए वह घर पर नहीं रह रही हैं। मुखिया नीलम देवी पर कोई आरोप नहीं है। इसके बावजूद भी वह पंचायत के विकास कार्य को गति नही दे रही है। इस बारे में जब मुखिया से पक्ष जानने की कोशिश की गयी तो उनसे संपर्क स्थापित नहीं हो पाया।

...नौ माह से बंद है पंचायत सरकार भवन

गौरीपुर पंचायत में बिहार सरकार के द्वारा बनाए गए सरकार पंचायत भवन मौजमपट्टी गांव में ही है। मिडिल स्कूल के बगल में स्थित इस पंचायत सरकार भवन के प्रांगण में ही फरवरी माह में घटना हुआ था। इस कारण फरवरी से लेकर अभी तक यह भवन बंद है। इस भवन के चारों तरफ जंगल उग गए हैं। फरवरी से लेकर अभी तक पंचायत भवन अभी तक एक बार भी नहीं खुला है। बताया जाता है कि सरकार पंचायत भवन की चाभी मुखिया नीलम देवी के पास ही है और इस कारण भी यह भवन अभी तक नहीं खुला है। आमसभा समेत अन्य किसी भी तरह के विकास कार्यों पर पिछले 9 माह से ग्रहण लगा हुआ है। मौजमपट्टी गांव के रहने वाले दर्जनों लोगों ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया कि मुखिया नीलम देवी के पति बुच्चन यादव की दबंगई के कारण पंचायत के लोग कुछ नहीं बोल रहे हैं । जबकि बुच्चन यादव और अखिलेश यादव में वर्चस्व की लड़ाई मुखिया चुनाव से ही शुरू हुआ है। स्थानीय लोगों का कहना है कि दो पक्षों की लड़ाई में पंचायत का विकास कार्य ठप पड़ा हुआ है।

मंथर गति से हो रहा है काम

इस पंचायत में होने वाले कई विकास कार्य ठप है। इलाके में कुछ कार्य हो भी रहे हैं तो वह भी काफी मंथर गति से हो रहा है। बिहार सरकार के कई महत्वपूर्ण कार्य इस पंचायत के लोगों का मुंह चिढ़ा रहा है। मुखिया के नहीं रहने पर उप मुखिया की जिम्मेदारी होती है लेकिन उप मुखिया भी ठप पड़े विकास कार्यों को बढ़ाने में कोई दिलचस्पी नही ले रहे हैं। बीकोठी प्रखंड के प्रभारी प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रेम कुमार ने बताया कि गौरीपुर पंचायत की मुखिया नीलम देवी की अनुपस्थिति में कुछ कार्य हुए हैं लेकिन जिस रफ्तार से पंचायत में विकास कार्य होना चाहिए वह नहीं हो पा रहा है। धमदाहा के एसडीओ राजेश्वरी पांडेय ने कहा कि पंचायत में रुके विकास कार्यों की रिपोर्ट बीडीओ से मंगायी जाएगी।

मंगवाई जाएगी रिपोर्ट, होगी कर्रवाई

बीकोठी के गौरीपुर पंचायत के मुखिया के गायब रहने समेत विकास कार्यों की रिपोर्ट मंगवा कर अध्यन किया जाएगा, इसके बाद विधि सम्मत करवाई की जाएगी ।

राजेश गुप्ता, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, पूर्णिया

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:For nine months there is waiting for development