DA Image
27 सितम्बर, 2020|3:12|IST

अगली स्टोरी

किसान सलाहाकार 10 दिवसीय अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए.

default image

पूर्णिया जिला किसान सलाहकार संघ ने अपने विभिन्न मांगों को लेकर 31 अगस्त से 10 सितंबर तक के लिए हड़ताल पर चले गए हैं। जिला सचिव मनोज कुमार सिंह के नेतृत्व में विभिन्न प्रखंडों के प्रखंड अध्यक्ष और जिला कमेटी के सदस्य किसान सलाहकारों ने जिला कृषि पदाधिकारी को हड़ताल से संबंधित लिखित आवेदन समर्पित किया है। किसान सलाहकार संघ के लिए लिखित में कहा है कि 15 अगस्त से 30 अगस्त तक किसान सलाहकारों के द्वारा एप आधारित कार्यों का बहिष्कार पर सरकार द्वारा विभाग के द्वारा किसी प्रकार का सम्मानजनक समझौता नहीं होने के कारण तथा उल्टे पूरे बिहार में जिला कृषि पदाधिकारी और जिला प्रशासन के द्वारा किसान सलाहकारों को मानसिक रूप से प्रताड़ित किए जाने एवं करोना जैसी वैश्विक महामारी में 6 महीने से वेतन नहीं मिलने के कारण भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। किसान सलाहकारों में से सुपौल के राजेंद्र मेहता और कैमूर के नीरज कुमार सिंह समेत दो किसान सलाहकारों की असामायिक निधन से पूरे बिहार के किसान सलाहकारों में रोष उत्पन्न हो गया है। जिसके कारण 30 अगस्त को पूरे बिहार के कई किसान सलाहकार संगठनों ने संयुक्त मोर्चा के बैनर तले पूर्णिया जिलाध्यक्ष सह संयुक्त मोर्चा के प्रदेश संयोजक संजीव कुमार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में 10 दिनों तक हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Farmers went on a 10-day indefinite strike