DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  पूर्णिया  ›  इजिप्ट का माल्टा सीमांचल वासियों की बढ़ा रहा इम्युनिटी

पूर्णियाइजिप्ट का माल्टा सीमांचल वासियों की बढ़ा रहा इम्युनिटी

हिन्दुस्तान टीम,पूर्णियाPublished By: Newswrap
Sat, 15 May 2021 03:43 AM
इजिप्ट का माल्टा सीमांचल वासियों की बढ़ा रहा इम्युनिटी

पूर्णिया। केके गौरव

कोरोना के वैश्विक महामारी से बचने के लिए सीमांचल के लोग प्रतिदिन प्रचुर मात्रा में विटामिन सी पाए जाने वाले प्राकृतिक फल माल्टा का सेवन कर रहे हैं। नींबू और मौसमी फलों के अलावा माल्टा का भी फल खुश्कीबाग के फल मंडी में प्रतिदिन भारी मात्रा में दिल्ली, पंजाब, हरियाणा , महाराष्ट्र के नासिक स्थित फल मंडी से आ रहे हैं। बताया जाता है कि माल्टा दोमट मिट्टी में होती है। इस वजह से इसकी खेती मिस्र देशों में होती है। वहां से आयात कर देश के महानगरों में मंगवाए जाते हैं । सीमांचल के फल विक्रेता थोक के भाव में मंगा कर इसे बेचते हैं । माल्टा का थोक भाव फिलहाल 100 से 125 प्रति किलो है तो खुदरा डेढ़ सौ से 200 प्रति किलो बिक रहा है। काफी खूबसूरत और मोटी परत वाले माल्टा की मांग इन दिनों इस कदर है कि लोग चार से पांच पेटी सप्ताह में खरीद कर ले जा रहे हैं। खुश्कीबाग मंडी के फल विक्रेता अर्जुन सिंह ने बताया कि हाल के दिनों में माल्टा की मांग काफी बढ़ी है। उन्होंने कहा कि 15 किलो के 1 पेटी माल्टा का आता है और कई ऐसे लोग हैं जो सप्ताह में तीन से पांच पेटी खरीद कर ले जा रहे हैं । उन्होंने बताया कि खुश्की बाग मंडी से ही पूर्णिया, अररिया, कटिहार , किशनगंज के सीमांचल इलाकों में माल्टा की खेप जाती है। सीमांचल में प्रतिदिन दस लाख से अधिक के माल्टा की खेप बिक रही है।

इम्युनिटी बूस्टर के रूप में काम कर रहा है इन दिनों माल्टा

होम्योपैथिक के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ मनोज कुमार सिंह बताते हैं कि माल्टा नींबू प्रजाति का खुशबूदार एंटी ऑक्सीडेंट और शक्ति वर्धक फल है। यह भूख बढ़ाने वजन कम करने खांसी जुकाम में उपयोगी होता है । बॉटनी में शोध कर चुकी प्रियंका कुमारी बताती है कि माल्टा का वैज्ञानिक नाम सिस्टम सीनेंसिस है। सेहत के हिसाब से यह गुणकारी है । इसमें विटामिन सी, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन फाइबर, आयरन, फास्फोरस मैग्नीशियम, पोटेशियम के अलावा कई अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं । कोरोना से लड़ने में काफी कारगर होता है । इसके सेवन से शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है और काम करने में भी मन लगा रहता है। इसके प्रति दिन यदि सेवन किए जाए तो कई अन्य तरह के गंभीर रोग कभी नहीं हो सकते हैं।

...किशनगंज से पश्चिम बंगाल तो अररिया से नेपाल जाता है माल्टा

थोक फल विक्रेता ने बताया कि कई ऐसे अन्य जिलों के फल विक्रेता हैं जो माल्टा के ट्रक ही मंगवाते हैं। फल कमीशन एजेंट के रूप में काम करने वाले आजाद ने बताया कि किशनगंज से पश्चिम बंगाल के कुछ इलाकों में माल्टा की खेप जाती है। वहीं दूसरी ओर अररिया जिला से जोगबनी के रास्ते नेपाल के कुछ इलाकों में माल्टा की खेप जाती है । उन्होंने बताया कि इसकी मांग इस कदर है कि लोग एडवांस में ही रुपया देकर जाते हैं। खासकर इस को लेकर आम लोग भी काफी सजग है , और यही वजह है कि कई बड़े अन्य जिलों के फल के थोक विक्रेता भी इसकी खेप लगातार मंगवा रहे हैं।

एक पखवाड़े में 34 ट्रक मंगाया गया माल्टा

माल्टा की सबसे अधिक खपत पूर्णिया और इसके बाद किशनगंज जिले में है। थोक फल विक्रेता ने बताया कि 15 दिनों के दौरान 34 ट्रक माल्टा खुश्की बाग मंडी में आ चुका है। इनमें से कई अन्य जिलों के भी व्यापारियों के द्वारा थोक के भाव में मंगवाए गए हैं । बताया जाता है कि माल्टा की लगातार मांग होने की वजह से फल व्यवसाई भी काफी सजग और जागरूक हो गए हैं। उन्होंने बताया कि माल्टा की खेप विदेश से आयात कर देश के बड़े महानगरों में स्थित फल मंडी में मंगवाए जाते हैं ।

संबंधित खबरें