ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार पूर्णियानाट्य एवं लोक कला को लेकर परिचर्चा

नाट्य एवं लोक कला को लेकर परिचर्चा

-फोटो-पूर्णिया, हिन्दुस्तान संवाददाता। कला भवन नाट्य विभाग की ओर से कला भवन परिसर में नाट्य एवं लोक कला परिचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमें जिला के...

नाट्य एवं लोक कला को लेकर परिचर्चा
हिन्दुस्तान टीम,पूर्णियाMon, 04 Dec 2023 12:46 AM
ऐप पर पढ़ें

पूर्णिया, हिन्दुस्तान संवाददाता।
कला भवन नाट्य विभाग की ओर से कला भवन परिसर में नाट्य एवं लोक कला परिचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमें जिला के लोक कला एवं रंगमंच से जुड़े दर्जनों रंगकर्मियों ने भाग लिया। इस परिचर्चा में वरिष्ठ रंगकर्मी एवं नाट्य विभाग के संयोजक सचिव विश्वजीत कुमार सिंह ने उपस्थित रंगकर्मियों का स्वागत करते हुए रंगमंच के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। परिचर्चा में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित वरिष्ठ रंगकर्मी मिथिलेश राय ने परिचर्चा की अध्यक्षता की। उन्होंने कहा कि रंगमंच के प्रति हम सजग रहें। रेणु रंगमंच संस्थान के सचिव अजीत कुमार सिंह बप्पा ने नाटक पर चर्चा करते हुए उन्होंने थिएटर को एक महत्वपूर्ण अंग बताया। थिएटर के माध्यम हम अपने आप को बदल सकते हैं। नाट्य विभाग के निर्देशक कुंदन कुमार सिंह ने कहा कि रंगमंच ही जीवन है। रंगमंच के जरिए हम अपने आप को बहुत कुछ दिखा सकते हैं। उन्होंने पश्चात रंगमंच और वर्तमान रंगमंच के संदर्भ में विस्तार से अपनी बातों के रखा। परिचर्चा में उपस्थित पुराने रंगकर्मी नंदकिशोर ने भी रंगमंच के प्रति अपना विचार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कलाकार को आगे बढ़ाने के लिए पुराने कलाकारों को आगे आना बहुत जरूरी है। कलाकारों में सुनील सुमन ,वरिष्ठ कलाकार राम पुकार टूटू ,लोक कलाकार अमित कुमार ,लोक गायिका चांदनी शुक्ला, रंगकर्मी अभिनव आनंद ,शिवाजी राव, आशीष कुमार दुबे ,अमित कुमार झा ,अंजनी श्रीवास्तव ,शिवाजी राव राज रोशन ,गरिमा कुमारी, अनमोल कुमार, आरजू परवीन आशुतोष कुमार, अभिमन्यु कुमार, इत्यादि कलाकारों ने नाट्य और लोक कला परिचर्चा पर अपनी-अपनी बातों को रखा और एक जुट होकर रंगमंच को आगे बढाने का सबों ने शपथ भी लिया । नाट्य और लोक कला पर चर्चा में वरिष्ठ रंगकर्मी विश्वजीत कुमार सिंह ने सभी उपस्थित कलाकारों को आगे आने पर जोर दिया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें