ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार पूर्णियाउम्मीद ट्रस्ट की काऊंसिलिंग में उमड़ रही छात्रों की भीड़

उम्मीद ट्रस्ट की काऊंसिलिंग में उमड़ रही छात्रों की भीड़

-फोटो : पूर्णिया। उम्मीद एजुकेशनल एंड चेरिटेबल ट्रस्ट की काऊंसिलिंग लगातार जारी है। भारी संख्या में छात्र इसमें शामिल होकर अपने एडमिशन की प्रक्रिया...

उम्मीद ट्रस्ट की काऊंसिलिंग में उमड़ रही छात्रों की भीड़
हिन्दुस्तान टीम,पूर्णियाTue, 21 May 2024 01:16 AM
ऐप पर पढ़ें

पूर्णिया। उम्मीद एजुकेशनल एंड चेरिटेबल ट्रस्ट की काऊंसिलिंग लगातार जारी है। भारी संख्या में छात्र इसमें शामिल होकर अपने एडमिशन की प्रक्रिया पूरी करा रहे हैं। उम्मीद ट्रस्ट छात्रों के कॉलेज फीस की पूरी जिम्मेदारी ले रहा है। उम्मीद ट्रस्ट द्वार छात्रों को दी जा रही कॉलेज फीस किसी भी प्रकार का लोन या उधार नहीं है। इसे कभी वापस नहीं करना है। छात्रों को मात्र अपने रहने खाने और परीक्षा शुल्क का खर्च उठाना होता है। ट्रस्ट के चेयरमैन नवाज शरीफ ने बताया कि देश में लाखों की संख्या में ऐसे छात्र हैं जो अपना रहना खाना और परीक्षा शुल्क का खर्च तो उठा सकते हैं लेकिन कॉलेज की मोटी फीस देने की सलाहियत नहीं रखते हैं ऐसे सभी छात्रों को उम्मीद ट्रस्ट गोद लेकर उनके कॉलेज फीस की पूरी जिम्मेदारी लेता है। बेगूसराय, भागलपुर, खगड़िया, अररिया, पूर्णिया सहित बिहार के कई जिलों से छात्र लगातार काऊंसिलिंग के लिए उम्मीद ट्रस्ट के पटना ऑफिस पहुंच रहे हैं। ट्रस्ट के चेयरमैन नवाज शरीफ ने देशभर के छात्रों से अपील की है कि यदि वे इंटर के बाद किसी भी कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं तो वे एक बार उम्मीद एजुकेशनल एंड चेरिटेबल ट्रस्ट के ऑफिस जरूर आएं, ताकि उन्हें एडमिशन के नाम पर कॉलेज की दुकान चलाने वालों की सच्चाई का पता चल सके। उन्होंने कहा कि हर गांव हर शहर में प्राइवेट युनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए कुछ कोचिंग संचालक, कुछ शिक्षक काम कर रहे हैं, जिनका उद्देश कॉलेज में छात्रों का सौदा होता है। वहीं उम्मीद ट्रस्ट छात्रों के कॉलेज फीस की पूरी जिम्मेदारी लेता है, जो किसी प्रकार का लोन नहीं है। इसे कभी छात्रों को वापस नहीं करना है। छात्र अपने रहने-खाने और परीक्षा शुल्क का खर्च ही उठाएंगे। उन्होंने बताया कि बिहार-झारखंड के कई जिलों में उम्मीद ट्रस्ट की ब्रांच ऑफिस है। जो भी छात्र यदि उम्मीद ट्रस्ट की मदद से पढ़ना चाहते हैं तो वे उम्मीद ट्रस्ट की ऑफिस में संपर्क कर सकते हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।