ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार पूर्णियामानसूनी बौछार से पहले बाढ़ से निपटने को प्रशासन तैयार

मानसूनी बौछार से पहले बाढ़ से निपटने को प्रशासन तैयार

-फोटो : पूर्णिया, वरीय संवाददाता। मानसूनी बौछार से पहले जिला प्रशासन संभावित बाढ़ एवं आपदा से निपटने को लेकर तैयार है। बाढ़ पूर्व तैयारी को लेकर...

मानसूनी बौछार से पहले बाढ़ से निपटने को प्रशासन तैयार
हिन्दुस्तान टीम,पूर्णियाWed, 19 Jun 2024 12:45 AM
ऐप पर पढ़ें

पूर्णिया, वरीय संवाददाता।
मानसूनी बौछार से पहले जिला प्रशासन संभावित बाढ़ एवं आपदा से निपटने को लेकर तैयार है। बाढ़ पूर्व तैयारी को लेकर जिलाधिकारी कुंदन कुमार की अध्यक्षता में मंगलवार को समीक्षा बैठक की गयी। आपदा प्रभारी द्वारा बताया गया कि बाढ़ राहत एवं अन्य सामग्रियों के दर का निर्धारण कर लिया गया है तथा आपूर्ति कर्ता का चयन करते हुए एकरारनामा भी कर लिया गया है। सभी अंचलों में पर्याप्त संख्या में पॉलिथीन शीट्स उपलब्धता है। इस प्रकार जिले में कुल 27024 पॉलिथीन शीट्स सुलभ हैं। अंचल अमौर द्वारा 4000 , बैसा द्वारा 6000 तथा अंचल धमदाहा द्वारा 400 पॉलिथीन शीट्स के लिए अधियाचित किया गया है। बाढ़ राहत शिविर एवं सामुदायिक रसोई के संचालन के लिए सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गयी है। नाव की समीक्षा के दौरान आपदा प्रभारी द्वारा बताया गया कि सरकारी 41 नाव परिचालन योग्य है, निजी नाव की संख्या 75 है, जिसके साथ एकरारनामा कर लिया गया है। बैठक में उप विकास आयुक्त साहिला, सहायक समाहर्ता,अपर समाहर्ता,अपर समाहर्ता विधि व्यवस्था,नगर आयुक्त,आपदा प्रभारी समेत सभी सम्बन्धित कार्यपालक अभियंता तथा संबंधित पदाधिकारी मौजूद थे।

------------------------------

...10 बाढ़ आश्रय स्थल :

जिले में कुल 10 बाढ़ आश्रय स्थलों का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है। क्रमश: बाढ़ आश्रय स्थल धुसमल एवं सिरसी बैसा, बाढ़ आश्रय स्थल खाड़ी महिनगांव, हफनियां, ताराबादी अमौर, अंचल वायसी अंतर्गत बाढ़ आश्रय स्थल गांगर,बनगाम अंचल डगरूआ अंतर्गत बाढ़ आश्रय स्थल टौली, मकैली एवं मजगामा बाढ़ आश्रय स्थल बनाया गया है। सभी बाढ़ आश्रय स्थल को स्थानांतरित भी कर दिया गया है।

...300 ऊंचे शरण स्थल :

जिला अंतर्गत कुल 300 ऊंचे शरण स्थलों का चयन किया गया है। सभी अंचलों में सामुदायिक रसोई का परिचालन के लिए कुल 256 जगह को चिन्हित किया गया है। अनुमंडल बायसी अंतर्गत अंचल बायसी के बाढ़ आश्रय स्थल गांगर में 40 सदस्य एसडीआरएफ टीम को सभी आवश्यक मूलभूत सुविधाओं के साथ रखा गया है। अनुग्रहित राहत अनुदान के भुगतान के लिए परिवारों की सूची का आपदा सम्पूर्ति पोर्टल पर अपलोडिंग एवं अद्यतीकरण का कार्य तीव्र गति से किया जा रहा है।

...सात तटबंधों की मरम्मती का कार्य पूर्ण :

नदी तटबंधों की मरम्मती एवं बाढ़ संघर्षात्मक कार्यों की समीक्षा के दौरान कार्यपालक अभियंता बाढ़ नियंत्रण एवं जल निस्सरण प्रमंडल पूर्णिया द्वारा बताया गया कि सात तटबंधों की मरम्मती का कार्य पूरा कर लिया गया है। पूर्व वर्षों में हुए कटाव के आधार पर 8 अति संवेदनशील एवं 6 संवेदनशील एवं 12 कम संवेदनशील स्थलों को चिन्हित किया गया है। त्वरित कटाव निरोधक कार्य के लिए चिन्हित संवेदनशील जगहों के निकट बाढ़ संघर्षात्मक सामग्री बालू,बोरा, जाल आदि का भंडारण किया जा रहा है।

...पुलिस को पेट्रोलिंग कराने का निर्देश :

जिला पदाधिकारी द्वारा समीक्षा के दौरान निर्देश दिया गया कि पूर्णिया बाढ़ से प्रभावित क्षेत्र है। इसलिए सभी को तैयार रहना है तथा सभी तैयारियां विभागीय एसओपी के अनुरूप करना है। सबसे संवेदनशील स्थल पर पहले सारी तैयारियां पूरी करनी है जिससे लोगों के जान-माल की रक्षा की जा सके। डीएम द्वारा अवर पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया गया कि अति संवेदनशील स्थलों पर नियमित रूप से संबंधित थानों द्वारा पेट्रोलिंग कराना सुनिश्चित करें।

...गोताखोरों को प्रशिक्षण :

जिले में गोताखोरों की प्रशिक्षण से सम्बन्धित समीक्षा की गई। समीक्षा में पाया गया की मास्टर ट्रेनर के द्वारा गोताखोर का प्रशिक्षण सुरक्षित तैराकी कार्यक्रम के अंतर्गत करा लिया गया है। जिलाधिकारी द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त गोताखोरों की सूची पंचायत एवं प्रखंड द्वारा तैयार करने का निर्देश आपदा प्रभारी को दिया गया। सम्पूर्ति पोर्टल पर शत प्रतिशत लाभुकों की आधार सीडिंग तथा बैंक अकाउंट अपलोड कराने का निर्देश आपदा प्रभारी को दिया गया।

...युवा चाहते हैं नौका खरीदना तो मिलेगा ऋण :

नावों की उपलब्धता की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी द्वारा अंचल कसबा, रुपौली, अमौर में पर्याप्त संख्या में नावों की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। यदि कोई युवा नाव क्रय करना चाहते हैं तो उन्हें मुद्रा लोन एवं पीएमजीपी के तहत् ऋण उपलब्ध कराकर नाव क्रय करना सुनिश्चित करें। जिले में बाढ़ आने के पहले ही सभी तकनीकी माध्यमों से एवं संबंधित पदाधिकारी से समय पर समन्वय बनाकर अग्रेतर जानकारी प्राप्त करें ताकि संभावित बाढ़ के पहले जान-माल की अधिक से अधिक सुरक्षा किया जा सके।

...शहर की 300 सड़कों की शीघ्र करें मरम्मती :

नगर आयुक्त को निर्देशित किया गया कि पूर्णिया शहरी क्षेत्र के 300 सड़कों की मरम्मती एवं मोटरेबल निर्धारित समय सीमा के अंदर करना सुनिश्चित करें। बैठक में उपस्थित एसडीआरएफ टीम को निर्देशित किया गया कि संभावित बाढ़ के मद्देनजर अभी से ही सजग एवं एवं तत्पर रहे। संबंधित कार्यपालक अभियंता को निर्देश दिया गया कि बाढ़ आपदा के दौरान क्षतिग्रस्त सड़कों तथा पुल पुलिया की मरम्मती एवं साफ सफाई निर्धारित समय सीमा के अंदर हर हालत में करना सुनिश्चित करें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
Advertisement