DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देसी गायों की नस्ल सुधार पर तेजी से काम करें : राज्यपाल

राज्यपाल लालजी टंडन ने बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रामेश्वर सिंह को निर्देश दिया कि देसी गायों की नस्ल सुधार की दिशा में तेजी से कार्य करें। इसके लिए आवश्यक शोध कार्य भी होने चाहिए। राज्यपाल से राजभवन में बुधवार को कुलपति ने मुलाकात कर विश्वविद्यालय की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी।

कुलपति से कहा कि भारतीय ग्रामीण अर्थव्यवस्था का मूल आधार कृषि और पशुधन है। पशुधन के विकास से गरीबों का भी आर्थिक सशक्तीकरण होगा। कुलपति को बिहार में गायों के गिर नस्ल, सहिवाल नस्ल तथा थारपारकर नस्ल के विकास की दिशा में तेजी से काम करने को कहा। ये गायें बिहार और अन्य उत्तरी राज्यों के ज्यादा तापमान वाले इलाकों के भी अनुकूल होती हैं। इनके रख-रखाव और चिकित्सा पर भी काफी कम खर्च होता है। साथ ही इनसे कम लागत पर ज्यादा दूध उत्पादन होता है।

राज्यपाल ने राज्य में हाई जेनेटिक मेरिट वाले उन्नत नस्ल के सांडों को भी ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध कराने पर जोर दिया। कहा कि देहाती नस्ल की गायों में भी भ्रूण-धारण के क्रम में लिंग-निर्धारण की व्यवस्था विकसित करने पर शोध चल रहा है। कुलपति को इस पर काम करने को। राज्यपाल ने कहा कि दुग्ध-संग्रहण के कार्य में लगी सहकारी संस्थाओं के सुदृढ़ीकरण के लिए भी विश्वविद्यालय को आवश्यक परियोजनाएं चलानी चाहिए। इनसे सम्बद्ध और अन्य वैसे सभी पशुपालकों को प्रत्येक वर्ष पुरस्कृत और सम्मानित करने का कार्यक्रम बनाना चाहिए। देसी नस्ल की गायों या अन्य पशुओं के जरिये अधिक दूध उत्पादन करने वालों को भी सम्मानित करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Work faster on cow desi breeds improvement Governor