water logging Impacted Market committees business in Patna - पटना में जलजमाव से बाजार समिति का कारोबार बेपटरी-Video DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना में जलजमाव से बाजार समिति का कारोबार बेपटरी-Video

                                                                                                                                                                                                                                      -

दो हफ्ते से कृषि उत्पादन बाजार समिति में जलजमाव से कारोबारियों को अब तक पूरी तरह से राहत नहीं मिल सकी है। बाजार समिति के संतरा मंडी, आलू मंडी व फल मंडी में जमा पानी अब तक नहीं निकल सका है। स्थिति यह है कि मंडी में ग्राहकों से लेकर दुकानदारों को गंदे व सड़ांध वाले पानी से आने जाने की मजबूरी है। संतरा मंडी के पीछे जमा पानी में गाड़ियां भी फंस रही हैं।

मंडी के कारोबारियों का कहना है कि जलजमाव के 14 दिन बाद भी मंडी में पानी का रहना पूरी तरह अफसरों की लापरवाही का नतीजा है। वहीं, अब तक बाजार समिति का कारोबार पटरी पर नहीं लौट सका है। विक्रेताओं का कहना है कि सामान्य दिनों की तुलना में अभी 50 फीसदी कारोबार ही हो पा रहा है। 

संतरा मंडी के विक्रेता अवधेश यादव ने बताया कि मंडी में जलजमाव से उन्हें लगभग लाखों का नुकसान हो चुका है। मंडी जैसे तैसे चालू जरूर हुई है, लेकिन अभी भी तीन फीट तक पानी जमा होने से गाड़ियों के लगाने में परेशानी हो रही है। मंडी में जगह-जगह जलजमाव की समस्या के कारण अभी भी कारोबार पटरी पर नहीं आया है। 

फल मंडी के मोइन ने बताया कि अभी भी सड़े पानी को नहीं निकाला जा सका है। ग्राहकों को पानी में घुसकर आना पड़ता है। वहीं, फलों की लोडिंग व अनलोडिंग में भी परेशानी होती है। केला मंडी के बरूण कुमार बताते हैं कि मंडी में सड़ा माल हटाने की व्यवस्था नहीं हो रही है। सड़ चुके फल के बदबू से ग्राहकों व दुकानदारों को परेशानी हो रही है। बहादुरपुर थाना के पीछे, राज्य सरकार का कोल्ड स्टोर, केंद्रीय सरकार का कोल्ड स्टोर, प्याज मंडी में भी जलजमाव के बाद परेशानी कम नहीं हुई है। वहीं, राजेंद्र नगर गोलंबर से बाजार समिति में जगह जगह रखे गये कचरा को भी नहीं हटाये जाने से परेशानी बढ़ गई है। 

डेंगू का प्रकोप बढ़ा 
मंडी के मजदूरों से लेकर पालदारों व विक्रेताओं का कहना है कि जलजमाव के बावजूद दवा का छिड़काव नहीं हो रहा है। इससे मच्छरों का प्रकोप बढ़ा हुआ है। कई लोगों को डेंगू भी हो चुका है। पालदार अंबिका प्रसाद ने बताया कि कंधा से ऊपर तक पानी का जलजमाव से 12 दिन गांव चले गये। लेकिन अब जब लौटे हैं तो भी परेशानी कम नहीं हुई है। महाराष्ट्र से आये ट्रक चालक ने बताया कि संतरा मंडी के पीछे गाड़ी लगाने में ट्रक उलटने का खतरा है। अकील ने कहा कि जिंदगी में अब कभी पटना न आएंगे। 

मुआवजे के लिए करेंगे मांग
मंडी के कारोबारियों ने जलजमाव से हुए नुकसान के लिए मुआवजे की मांग करेंगे। संतरा मंडी के अवधेश ने बताया कि उनका तीन ट्रक संतरा मंडी में रखे रखे गाड़ी में सड़ गया। केला मंडी के कारोबारियों की करीब एक करोड़ की पूंजी बर्बाद हो गई। फलों के अलावा सब्जियों का भी काफी नुकसान हुआ है। ऐसे में मंडी के कारोबारी अपने मुआवजे के लिए सरकार व प्रशासन से मांग करने की योजना बना रहे हैं।

जलजमाव से गरीबों को अनाज नहीं मिल पा रहा है। बीते महीने पटना सिटी में 40 फीसदी पीडीएस दुकानों तक अनाज नहीं पहुंच सका है। इसके चलते सैकड़ों उपभोक्ताओं को समस्या हो रही है। जन कल्याण राशन कार्डधारी संघ के संरक्षक दशरथ पासवान ने जिलाधिकारी से पटना सिटी के पीडीएस दुकानों तक अनाज की आपूर्ति कराने की मांग की है। गरीब अनाज नहीं मिलने से रोजाना पीडीएस दुकानदारों से लोगों की बकझक हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:water logging Impacted Market committees business in Patna

'हिन्दुस्तान स्मार्ट' अख़बार की कॉपी पाने के लिए, नीचे दिए फॉर्म को भरे

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी से साझा नहीं की जाएगी व केवल हिन्दुस्तान अख़बार द्वारा आपसे संपर्क करने के लिए इस्तमाल की जाएगी।