DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टीईटी फर्जीवाड़े में स्पेशल सेल ने बोर्ड के कुछ कर्मी सहित पांच को हिरासत में लिया

टीईटी फर्जीवाड़े में स्पेशल सेल ने बोर्ड के कुछ कर्मी सहित पांच को हिरासत में लिया

टीईटी फर्जीवाड़ा मामले में पटना पुलिस की स्पेशल सेल ने बोर्ड के कुछ कर्मी सहित पांच को हिरासत में लिया है। सभी से पूछताछ की जा रही है। खबर है कि दो कर्मियों ने अहम जानकारियां पुलिस को दी हैं।

उनकी निशानदेही पर देर रात तक पुलिस कम्प्यूटर को खंगाल रही थी जिसमें फर्जीवाड़े से जुड़े सबूत रिकॉर्ड हैं। सूत्रों की मानें तो सोमवार तक पटना पुलिस इस मामले से पर्दा उठा सकती है। खबर यह भी है कि इस फर्जीवाड़ा के मास्टरमाइंड सहित अन्य की गिरफ्तारी हो चुकी है। लेकिन जांच की गोपनीयता के मद्देनजर पुलिस अफसर फिलहाल गिरफ्तारी की बात से इंकार कर रहे हैं। दूसरी ओर देर शाम एसएसपी मनु महाराज कोतवाली थाने पहुंचे जहां उन्होंने हिरासत में लिये गये कुछ कर्मियों से पूछताछ भी की।

फेल को पास करने का चला रहे थे रॉकेट

हिरासत में लिए गए कर्मचारियों से टीईटी फर्जीवाड़े में हुये खेल की जानकारी ली जा रही है। बोर्ड के कई कर्मी मास्टरमाइंड की भूमिका में हैं, जो फेल को पास कराने का रैकेट चला रहे थे।

फर्जीवाड़ा के रैकेट में कई और कर्मी भी शामिल

फर्जीवाड़ा के रैकेट में बिहार बोर्ड के कई और कर्मचारी भी शामिल हैं। पुलिस पहले ही बोर्ड के तीन कर्मियों को गिरफ्तार कर चुकी है। यह बात भी सामने आयी है कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति में टीईटी फर्जीवाड़े का पूरा रैकेट चल रहा था। सूत्रों की मानें तो इस बार भी पुलिस ने जिन कर्मचारियों को उठाया है उसमें वही कर्मी शामिल हैं जो अलग-अलग जिलों को डील करते हैं और कंप्यूटर सेक्शन के हैं। सूत्र बताते हैं कि बोर्ड के जमुई, बेगूसराय, समस्तीपुर जिलों को देखने वाले कर्मी जो फरार चल रहे थे वे पकड़ में आ गए हैं। सिटी एसपी अमरकेश डी ने पांच बोर्डकर्मियों को हिरासत में लिए जाने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि जांच के क्रम में कुछ कर्मियों की स्थिति संदिग्ध दिख रही है।

मूल सिडी से करायी जाएगी जांच

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से टीईटी रिजल्ट की एक मूल सिडी भी तैयार करायी गयी थी। इस सीडी को डीईओ के पास जिलों में भेजा गया था। इस सीडी से यह मिलान कराया जायेगा कि बोर्डकर्मियों की ओर से कहां-कहां गड़बड़ी की गयी है। बकौल एसपी सिटी पूर्व में तैयार सीडी से रिजल्ट का मिलान किया जाएगा। इससे पता चल जाएगा कि कितने रिजल्ट में बदलाव किये गये हैं। इस जांच के बाद कई और जिलों में हुई गड़बड़ी का भी पता चलेगा।

टेबुटेलिंट रजिस्टर में कर दिया था खेल

सिटी एसपी ने बताया कि इस खेल में ज्यादा गड़बड़ी बोर्ड के कर्मियों द्वारा की गई है। कर्मियों ने कंप्यूटर में दर्ज रिकार्ड यानी सॉफ्ट कॉपी में बड़े पैमाने पर बदलाव कर दिया है। टेबुलेटिंग रजिस्टर को बदल कर गड़बड़ी कर दी गयी है। और भी कई जगहों पर गड़बड़ी सामने आई है। पहले डीटीआर में बदलाव किया गया। इसके बाद ओटीआर में भी बदलाव किया गया।

पूर्व में पकड़े गए थे फर्जी नियोजित शिक्षक

शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में पूर्व में कई जिलों से फर्जी नियोजित शिक्षकों को पकड़ा गया था। इन लोगों की गिरफ्तारी टीईटी के फर्जी प्रमाण-पत्र के आधार पर की गयी थी। उस वक्त आरटीआई के तहत जिलों में वर्ष 2014 में ऐसे फर्जी शिक्षकों के बारे में आवेदन जमा हुआ था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Three board employees taken in custody in TET scam