DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उपचुनाव परिणाम का राजनीतिक अर्थ न निकालें : मोदी

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि बिहार की तीनों सीटों पर दिवंगत जनप्रतिनिधियों के परिवार के प्रति मतदाताओं की सहज मानवीय सहानुभूति का गहरा प्रभाव रहा। यह जीत किसी नेता का कमाल नहीं है। अगर किसी नेता का कमाल होता तो फिर भभुआ सीट पर भी उसकी पार्टी या गठबंधन की ही जीत होती। इसलिए इस चुनाव परिणाम का कोई राजनीतिक अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2009 के आम चुनाव में भारी मतों से बिहार की 32 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करने वाले एनडीए को कुछ माह बाद हुए विधानसभा उपचुनाव में 18 में 12 सीटों पर हार मिली थी। फिर 2010 के विधानसभा चुनाव में तीन चौथाई बहुमत से एनडीए की सरकार बन गई। इसलिए उपचुनाव के परिणाम के आधार पर कोई दल और उसके नेता अगर मुगालता पालते हैं तो यह उनकी भारी भूल और छलावा होगा।

उपमुख्यमंत्री ने तीनों निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को बधाई देते हुए कहा कि हम मतदाताओं के फैसले का सम्मान करते हैं। इस उपचुनाव में जिसकी जो सीट थी वह उसके पास रह गई यानी यथास्थिति बरकरार रही है। लोकसभा की एक और विधान सभा की दो सीट निर्वाचित जनप्रतिनिधियों की असामयिक मृत्यु से रिक्त हुई थी जिन पर उनके परिजन ही चुनाव लड़ रहे थे और जनता ने सहानुभूति में उन्हें शेष बचे कार्यकाल के लिए अपना वोट देकर विजयी बनाया है। आमतौर पर उपचुनाव स्थानीय मुद्दे और नेतृत्व द्वारा लड़ा जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:There is no political meaning of by poll result