DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्यूशन पढ़ाकर सोमेश को यूपीएससी में मिली सफलता, 34वां रैंक

हौसले बुलंद हों तो मंजिल मिल ही जाती है, चाहे रास्ते में कितनी भी कठिनाइयां आ जाएं। कुछ ऐसा ही जज्बा दिखाया है सारण जिला मढौरा थाने के अवारी गांव निवासी सोमेश प्रकाश उपाध्याय ने। 

उसने यूपीएससी में 34वां स्थान हासिल कर बिहार में टॉप किया है। सोमेश की पढ़ाई 10वीं बंगाल बोर्ड, 12वीं साइंस देवघर, बीएससी सेंट जेवियर्स कॉलेज कोलकाता से हुई है। फिर टाटा रिसर्च इंस्टीट्यूट से एमएससी करने के बाद 2014 में यूपीएससी की तैयारी में जुट गए। लेकिन अगले ही साल 31 मई 2015 को पिता उपेंद्र उपाध्याय का निधन हो गया। इसके बाद सोमेश टूट गए। सोमेश कहते हैं तब चाचा विनोद उपाध्याय ने हौसला बढ़ाया। विनोद उपाध्याय औरंगाबाद में सैफ जवान हैं। वे कोलकाता में ही अपनी मां मंजू देवी और दो छोटी बहनों के साथ रहते हैं। 

सोमेश का परिवार शुरू से ही आर्थिक तंगी से जूझता रहा है। उसके पिता कोलकाता में प्राइवेट कंपनी में कर्मचारी थे। उनके  निधन के बाद सोमेश और उनकी दो छोटी बहनों ने ट्यूशन पढ़ाकर घर चलाया। यूपीएससी की तैयारी के दौरान भी सोमेश ट्यूशन पढ़ाते थे। 
पिताजी होते तो बहुत खुश होते

संयोग ऐसा कि जिस दिन(31 मई) उसके पिता ने दुनिया को अलविदा कहा, उसी दिन सोमेश का चयन यूपीएससी में हुआ। सोमेश कहते हैं कि पिताजी होते तो बहुत खुश होते। उनका सपना था कि मैं आईएएस बनूं। सोमेश अपनी सफलता का श्रेय माता, पिता, चाचा, दोस्तों और अपने शिक्षकों को देते हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Somesh gets success in UPSC after giving tution, 34th rank