DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएमसीएच की दवा दुकानों में कैसे पहुंची, जांच में जुटी टीम

निजी दुकानों में पीएमसीएच के इंजेक्शन मिलने के मामले की जांच के लिए ड्रग इंस्पेक्टरों की टीम अस्पताल परिसर में पहुंची। गुरुवार को चार इंस्पेक्टरों की टीम ने अस्पताल के टाटा वार्ड व स्टोर की चार से पांच घंटे तक जांच की। मरीजों को लिखी गई पर्ची और उपलब्ध दवाओं की स्थिति से अवगत हुए। टीम ने स्टोर में रखी दवाओं का स्टॉक से मिलान किया और उसकी लिस्ट भी तैयार की। जांच टीम उस कड़ी की तलाश में है जिसके जरिए मरीजों को मिलने वाली दवाएं निजी दुकानों व गोदामों तक पहुंच रही है। जांच से जुड़े इंस्पेक्टरों का मानना है कि अस्पताल कर्मियों की मिलीभगत के बिना दवाओं का बाहरी गोदामों तक पहुंचना संभव नहीं है। सूत्रों की मानें तो टीम को अस्पताल के एक कर्मी की ओर से कई महत्वपूर्ण सूचनाएं उपलब्ध कराई गई हैं जिससे ड्रग माफिया से जुड़ी कड़ी का खुलासा हो सकता है। इधर ताबड़तोड़ छापेमारी के बाद से ड्रग के अवैध कारोबार से जुड़े लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। अभी जारी रहेगी जांच अस्पताल के अधीक्षक डा. लखीन्द्र प्रसाद ने बताया कि जांच टीम ने गुरुवार को पीएमसीएच की दवाओं के हनुमान एजेंसी व निजी दुकानों में पहुंचने के मामले की पड़ताल की। मामले से जुड़ी जांच अगले तीन चार दिनों तक जारी रहेगी। शुक्रवार को टीम हथुआ वार्ड व इमरजेंसी में उपलब्ध दवाओं की जांच करेगी। तीमारदारों से भी ली जाएगी मामले में मरीजों के तीमारदारों से भी जानकारी ली जाएगी कि दवाओं की किल्लत बताकर कहीं दलालों द्वारा उन्हें बरगलाया तो नहीं जाता। अस्पताल परिसर में कई दलाल इस पूरे मामले में संलिप्त रहते हैं और कम कीमतों पर बाहरी दुकानों में दवाएं उपलब्ध कराने का झांसा देकर ड्रग माफिया को मदद करते हैं। इसके लिए उन्हें कमीशन भी मिलता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pmch's medicines how reched to drug agency, inspection started