Pindadaan in gaya gayasir aur gayacoop vedi par kiya karmkand - पितृपक्ष : गयासिर व गयाकूप वेदी पर किया कर्मकांड DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पितृपक्ष : गयासिर व गयाकूप वेदी पर किया कर्मकांड

pitru paksha  rituals performed at gayasir and gayakup altar

सीताकुंड और रामगया वेदी पर त्रिपाक्षिक गयाश्राद्ध कर रहे पिंडदानियों का जत्था सोमवार को एक बार फिर विष्णुपद इलाके में लौट आया। देश के कोने-कोने से आए पिंडदानियों ने विष्णुपद क्षेत्र की दो पिंडवेदियों पर गयाश्राद्ध कर पितरों के स्वर्ग प्राप्ति की कामना की।

कुछ पिंडदानियों ने नवमी तिथि को लेकर सीताकुंड और रामगया वेदी पर पिण्डदान किया। सीताकुंड पर बालू के पिंड अर्पित किये। महिलायों ने सुहाग पिटारी दान किया पितृपक्ष की दशमी तिथि को लेकर सोमवार को पिंडदानियों ने विष्णुपद मंदिर के दक्षिण श्मशान घाट के पास गया सिर और गया कूप वेदियों पर कर्मकांड किया। आज की तिथि को इन वेदियों का महत्व होने के कारण यहां भारी भीड़।

गया सिर वेदी का छोटा परिसर होने के कारण पिंडदानी इसकी छत और अगल-बगल पिंडदान करते नजर आए। तीर्थयात्रियों ने कर्मकांड करने के बाद गया कूप वेदी के अंदर स्थित कुएं में पिंड को अर्पित कर दिया। इसके बाद संकटा देवी के दर्शन-पूजन कर पिंडदानियों ने पितरों के साथ-साथ परिजनों के लिए कामना की। सत्रह दिनी पिंडदान करने वालों ने दोनों वेदियों पर जगह नहीं मिलने पर विष्णुपद मंदिर परिसर और तुलसीबाग में भी बैठकर पिंडदान किया। इधर, एक दिनी गयाश्राद्ध करने वालों की भीड़ विष्णुपद मंदिर, देवघाट और अक्षयवट पर रही। इसके अलावा संगत घाट, गजाधर घाट, ब्रह्म सरोवर, प्रेतशिला, रामशिला, सीताकुंड, वैतरणी सहित अन्य वेदियों पर पिंडदानी कर्मकांड कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pindadaan in gaya gayasir aur gayacoop vedi par kiya karmkand

'हिन्दुस्तान स्मार्ट' अख़बार की कॉपी पाने के लिए, नीचे दिए फॉर्म को भरे

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी से साझा नहीं की जाएगी व केवल हिन्दुस्तान अख़बार द्वारा आपसे संपर्क करने के लिए इस्तमाल की जाएगी।