DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनावी लॉलीपॉप: चुनावी वादों से ठगे जा रहे पटना के लोग

लोकसभा चुनाव हो या विधानसभा, दोनों में चुनाव के पहले नेता जी वोट मांगने आते हैं...मोहल्ले की समस्याओं को जड़ से खत्म करने का वादा कर जाते हैं। जीतने के बाद वादा तो छोड़िए मोहल्ले में झांकने तक नहीं आते। यह कहना है पटना साहिब और पाटलिपुत्रा के मोहल्ले वालों का। हिन्दुस्तान स्मार्ट की टीम ने जब इन मोहल्लों का जायजा लिया तो हर मोहल्ले में एक बड़ी समस्या नजर आई। यहां की जनता का कहना है कि पिछले 20-25 साल से जलजमाव, कचरा, आवारा पशुओं से परेशान हैं लेकिन हर बार नेता जी चुनावी लॉलीपॉप ही दे जाते हैं। 

कंकड़बाग
एशिया के सबसे बड़े मोहल्ले कंकड़बाग में समस्याओं का अंबार है। हर चुनाव में यही समस्याएं मोहल्लेवासियों के मुद्दे बनते हैं। जब भी कोई वोट मांगने आता है उनके सामने इन्हीं मुद्दोंं को पेश किया जाता है। लेकिन, हर बार सिर्फ आश्वसानों में विकास का वादा करके नेता चले जाते हैं। चुनाव के बाद मोहल्लेवासी खुद को ठगा महसूस करते हैं। 

लच्छेदार बातों से ठगी जाती है जनता
कंकड़बाग की जनता हर बार राजनेताओं की लच्छेदार बातों से ठगी जाती है। चुनाव से पहले नेता चक्कर काटने लगते हैं, जीतने के बाद छूमंतर हो जाते हैं। पिछले 20-25 सालों से जलजमाव जैसी समस्या का निदान नहीं हो पाया है। पांच साल बाद ही नेता नजर आते हैं।
-नंदू पटेल, पीसी कॉलोनी, कंकड़बाग

पहली ही बारिश में बह जाते हैं वादे
हर चुनाव में नेता जी और उनके समर्थक आते हैं। हमें यह विश्वास दिलाया जाता है कि इस बार चुनाव जीतते ही गलियों में पानी जमना बंद करवा देंगे। चुनाव के बाद पहली ही बारिश में वादे भी बह जाते हैं। शहर का सबसे पॉश कॉलोनी होने के बावजूद यहां घुटनों तक पानी भरा रहता है।  
-संजय कुमार पप्पू, इंदिरा नगर

हिन्दुस्तान स्मार्ट: पटना गरीब, नेता अमीर, शत्रुघ्न सिन्हा और रविशंकर शहर के सबसे अमीर प्रत्याशी

 दानापुर 
शहर के पुराने मोहल्लों में से एक है पोस्टल पार्क। यह एक ऐसी जगह है, जहां से बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन दोनों ही करीब में हैं। इसलिए इस मोहल्ले में स्टूडेंट्स की संख्या बहुत अधिक है। युवाओं का अच्छा वोट बैंक होने के कारण हर लोकसभा में यह मोहल्ला अहम रहता है। 2014 आम चुनाव में भाजपा के टिकट पर शत्रुघ्न सिन्हा की जीत हुई थी। 

फिर टूट गया जल निकासी का वादा
हल्की सी बारिश में मोहल्ले की गलियों में पानी जमा हो जाता है। पिछले 20-25 साल से यह समस्या ज्यों की त्यों है। पिछली बार लोकसभा चुनाव में वोट मांगने जब शत्रुघ्न सिन्हा के प्रतिनिधि आए थे, तब भी हम लोगों ने मेन होल ठीक करवाने को कहा था। परंतु नहीं हुआ।
-दिनेश कुमार, पोस्टल पार्क 

मानसून आते ही लगता है डर
बारिश का महीना आते ही डर सताने लगता है, फिर मोहल्ला डूबेगा। हम लोग फिर घरों में नजरबंद हो जाएंगे। इसलिए हर चुनाव में हमारे लिए सबसे बड़ा मुद्दा जलजमाव ही रहता है। हर बार हमें चुनावी वादों से ठग लिया जाता है। इस बार तो हमने सोचा है कि वोट उसको ही देंगे, जो हमारा दर्द समझेगा। 
-गोलू, पोस्टल पार्क

पोस्टल पार्क 
दानापुर सबसे तेजी से विकसित हो रहा शहर का इलाका है। बड़े-बड़े कॉम्पलेक्स बनाए जा रहे हैं। नई कॉलोनियां विकसित हो रही हैं। लेकिन उतनी ही तेजी से समस्याएं भी बढ़ रही हैं। यहां कच्ची सड़कें और जल जलजमाव बड़ी समस्या है। इसको लेकर हमेशा ही यहां के रहवासी आंदोलन तक करते रहे हैं। 

धीमी गति से हो रहा मोहल्ले का विकास
दानापुर में फ्लैट और मकान तो बहुत तेजी से बन रहे हैं, लेकिन आधारभूत सुविधाएं उतनी ही धीमी गति से विकसित हो रही हैं। हर चुनाव में सड़क-पानी ही हमारा मुद्दा होता है। वोट मांगते समय नेता जी तो यह दावा कर जाते हैं कि सांसद निधि से बनवा देंगे। जीतने के बाद भूल जाते हैं।
-त्रिलोकी प्रसाद सिंह, नरगदा दानापुर कैंट

अब वादा कर रहे हैं पक्की सड़क का
कच्ची सड़क से हम सभी मोहल्लेवासी बुहत परेशान है। हल्की सी बारिश में सड़क दलदल बन जाती है। इस बार जो भी नेता जी आ रहे हैं, सभी यह वादा कर रहे हैं कि सड़क पक्की बनवा दी जाएगी। अब 
चुनाव के बाद ही पता चलेगा कि कौन सच बोल रहा है और कौन झूठ।
-लखनदेव प्रसाद सिंह, शेर बुक्का मनेर

 न्यू रानीपुर
जब शहर का विस्तार हुआ तो एक और बड़ा मोहल्ला विकसित हुआ, आज उसे न्यू रानीपुर और करोड़ीचक के नाम से लोग जानते हैं। यह मोहल्ला पाटलिपुत्रा लोकसभा में आता है। इस मोहल्ले में संकरी गलियां, झूलते तार और गंदगी जैसी समस्याओं का अंबार है। नाले का पानी सड़क पर बहता है। ब्लॉक से रानीपुर जाने वाली सड़क जर्जर है।

सड़क जर्जर, होती है परेशानी
जर्जर सड़क से बहुत दिक्कत होती है। एक बड़ी आबादी इससे प्रभावित है। सड़क और नाले इस इलाके का सबसे बड़ा मुद्दा है। सभी नेता जानते हैं, तभी तो वोट मांगते समय सबसे पहला वादा यही करते हैं कि वोट दीजिए और जिताइए। सड़क बना दी जाएगी।
-शंकर शरण सिन्हा, जय हिंद कॉलोनी

सड़क पर भरा रहता है पानी
पिछले कई साल से हमारे मोहल्ले की सबसे बड़ी समस्या सड़क पर पानी का भरना है। जब भी चुनाव आता है, हमारे लिए यही मुद्दा होता है। इस बार हमने सोचा है कि वोट उसी को देंगे, जो सड़क और नाले बनवाएगा। फिर से अगर ठगे गए तो हमेशा के लिए बहिष्कार करेंगे।  
-विनय कुमार, जय हिंद कॉलोनी 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Patnas people being cheated by electoral promises