DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिशन एडमिशन: बीडी कॉलेज में होती है तीनों संकायों की पढ़ाई

राजधानी पटना स्थित बीडी कॉलेज में स्नातक में तीनों संकायों की पढ़ाई होती है। साइंस, आट्र्स और कॉमर्स तीनों संकायों के विभिन्न विषयों में दाखिले के लिये हाल के वर्षों में यह छात्रों की पसंद बना है। इस कॉलेज की स्थापना 1970 में की गई थी। बीते दशकों में कॉलेज ने कई टॉपर दिये हैं।  

एक सेवानिवृत्त शिक्षक भुवनेश्वरी दयाल जी ने अपने पीएफ के 45 हजार रुपये खर्च कर इस कॉलेज की शुरुआत की थी। बाद के वर्षों में कॉलेज का उत्तरोत्तर विकास होता गया। कॉलेज के प्राचार्य प्रो. संजय कुमार बताते हैं कि कॉलेज के विकास में पटना नगर निगम के पूर्व महापौर केएन सहाय और भूतपूर्व राज्यसभा सांसद एवं हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक शंकर दयाल सिंह की प्रमुख भूमिका रही। 

प्राचार्य के अनुसार, यहां तीनों संकायों की पढ़ाई बेहतर होती है। इस कॉलेज को शुरू में बीडी इवनिंग कॉलेज के नाम से जाना जाता था, लेकिन 2012 में इसका नाम बदलकर बीडी कॉलेज कर दिया गया। तीनों संकायों को मिलाकर यहां स्नातक में आट्र्स में 1337, विज्ञान में 1070 और कॉमर्स में भी 649 सीटें हैं। यूं तो यहां विभिन्न विषयों के लिये हजारों छात्र-छात्राएं आवेदन करते हैं, लेकिन इतिहास, अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान, हिन्दी व अन्य विभागों में छात्र दाखिला लेना चाहते हैं। 

पर्सियन की पढ़ाई केवल बीडी कॉलेज में होती है
पीपीयू के कॉलेजों में प्राकृत, पाली, बांग्ला, पर्सियन की पढ़ाई केवल बीडी कॉलेज में ही होती है। विज्ञान संकाय में फिजिक्स और केमेस्ट्री में नामांकन को लेकर भी छात्रों में प्रतिस्पद्र्धा रहती है। संस्थान में समृद्ध लाइब्रेरी है। साथ ही छात्रों के शारीरिक स्वास्थ्य के लिहाज से शानदार जिम भी है। खेलकूद का बेहतर वातावरण है। लैबोरेटरी और वर्चुअल लैब में प्रायोगिक कक्षाएं नियमित होती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mission Admission Three faculties studying in Patnas BD College