ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार पटनाछात्रों में बढ़ रही कानून की पढ़ाई में दिलचस्पी

छात्रों में बढ़ रही कानून की पढ़ाई में दिलचस्पी

दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट हर बोर्ड ने जारी कर दिया गया है। इसके बाद छात्र-छात्राएं अब आगे की पढ़ाई के लिए बेहतर विकल्प की तलाश में हैं। मेडिकल और...

छात्रों में बढ़ रही कानून की पढ़ाई में दिलचस्पी
हिन्दुस्तान टीम,पटनाTue, 14 May 2024 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट हर बोर्ड ने जारी कर दिया गया है। इसके बाद छात्र-छात्राएं अब आगे की पढ़ाई के लिए बेहतर विकल्प की तलाश में हैं। मेडिकल और इंजीनियरिंग में अधिक भीड़ होने से अब छात्रों का रुझान कानूनी पढ़ाई के तरफ भी बढ़ा है। सीबीएसई के कई टॉपरों से बातचीत के क्रम में बताया कि लॉ में बेहतर विकल्प है। देश के लॉ विश्वविद्यालयों में क्लैट के माध्यम से नामांकन होना है।
बिहार में कानूनी शिक्षा के माध्यम से विधि क्षेत्र में कॅरियर बनाने वाले विद्यार्थियों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है। युवा कानून के क्षेत्र में रोजगार व सुनहरा भविष्य देखते हैं। एनएलयू से शिक्षा प्राप्त कर डिग्री लेने वाले विद्यार्थियों को देश-विदेश की कंपनियां व लॉ फर्म में आसानी से अच्छा पैकेज मिल जाता है। इसी वजह से प्रतिवर्ष युवाओं का कानूनी शिक्षा के प्रति रुझान बढ़ता जा रहा है। बिहार से हजारों छात्र-छात्राएं क्लैट के लिए आवेदन करते हैं। छात्रों को क्लैट 2025 रजिस्ट्रेशन फॉर्म ऑनलाइन मोड में भरना होगा। राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित क्लैट 2025 के पंजीयन जुलाई 2024 से प्रारंभ होंगे। इच्छुक उम्मीदवार को ऑफिशियल वेबसाइट www.clatconsortiumof nlu. ac.in पर जाकर आवेदन करना होगा।

क्लैट विशेषज्ञ और लॉ प्रेप ट्यूटोरियल के को फाउंडर अभिषेक गुंजन बताते हैं कि लॉ एक ऐसा क्षेत्र बनकर उभरा है, जिसमें पारंपरिक वकालत के साथ कई दूसरे कॅरियर विकल्प जुड़ रहे हैं। एक ही डिग्री से कई दूसरे विकल्प हासिल हो रहे हैं और लॉ ग्रेजुएट के पास संभावनाओं का बड़ा क्षेत्र इंतजार कर रहा है। इसमें कॉरपोरेट वकील, कानूनी सलाहकार, जुडिशरी और सिविल सर्विसेज, मीडिया और प्रकाशन, कंपनी सचिव, गैर सरकारी संस्थाओं में नौकरी जैसे कॅरियर विकल्प हो सकते हैं। जरूरी नहीं है कि आप किसी एक संस्था से जुड़कर ही काम करें। सेवाओं के बदले फीस का विकल्प हमेशा मौजूद रहता है।

कॉरपोरेट वकील के तौर पर बना सकते हैं कॅरियर : आप लॉ की पढ़ाई करके कॉर्पोरेट वकील बन सकते हैं। आज के समय में ज्यादातर कंपनियों में कॉर्पोरेट वकील होते हैं। कॉर्पोरेट वकील कंपनियों की ओर से सभी लेनदेन को अपनी इन-हाउस लीगल टीम या कॉरपोरेट लॉ फर्मों के हिस्से के रूप में संभालते हैं।

कानूनी सलाहकार : एक कानूनी सलाहकार का काम एक बड़े निगम या एक संगठन के साथ ही एक ग्राहक को कानूनी सलाह देना है। सलाहकार की जिम्मेदारी एग्रीमेंट्स तैयार करना, बातचीत करना, कॉर्पोरेट कानूनों का पालन करवाना और कर्मचारियों के साथ ही मैनेजमेंट से जुड़े विवादों में सलाह देना होता है। एक कानूनी सलाहकार बनने के लिए, उम्मीदवार को बार काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से जारी ‘सर्टिफिकेट ऑफ प्रैक्टिस' के साथ एक योग्य वकील होना चाहिए और उस क्षेत्र विषय में कुछ अनुभव भी जरूरी होता है, जिसमें वह कानूनी सलाह देता है।

ज्यूडिशियरी और सिविल सर्विसेज: न्यायिक सेवाओं (ज्यूडिशियल सर्विस) में प्रवेश के लिए राज्य अनुसार परीक्षा आयोजित की जाती है, जो जज बनकर टेबल के दूसरी तरफ से चीजों को देखना चाहते हैं। वे ज्यूडिशियल सर्विस एग्जाम के लिए तैयारी कर सकते हैं।

लिटिगेशन में बनाएं कॅरियर: इन कई विकल्पों के बीच एक और विकल्प लिटिगेशन (मुकदमेबाजी) का है। एक कानून स्नातक के लिए वकील एक पारंपरिक कॅरियर पथ के रूप में आता है। वकील बनने के लिए ग्रेजुएट को एक परीक्षा देनी होती है, जो बार काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से आयोजित की जाती है। यह हर साल में दो बार आयोजित की जाती है। ये परीक्षा विश्लेषणात्मक कौशल और कानून के बुनियादी ज्ञान पर आधारित है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।