Human chain in bihar today against child marriage and dowry - बनेगा रिकॉर्ड : बाल विवाह व दहेज के खिलाफ राज्यव्यापी मानव श्रृंखला आज DA Image
13 नबम्बर, 2019|7:13|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बनेगा रिकॉर्ड : बाल विवाह व दहेज के खिलाफ राज्यव्यापी मानव श्रृंखला आज

बाल विवाह और दहेज के खिलाफ आज राज्यव्यापी मानव श्रृंखला बनेगी। यह मानव श्रृंखला, नेशनल हाइवे, स्टेट हाइवे, जिला, प्रखंड, पंचायत, गांवों की विभिन्न सड़कों और पगडंडियों से होकर गुजरेगी। गत 21 जनवरी, 2017 को शराबबंदी के पक्ष में बनी 12,147 किलोमीटर की मानव श्रृंखला ने विश्व रिकॉर्ड बनाया था।

रविवार को बनने वाली मानव श्रृंखला इससे भी बड़ी 13668 किमी की होगी। इसमें 4.25 से 4.5 करोड़ लोगों के शामिल होने की उम्मीद है। इस बार जिलों ने रूट तय किया है। मानव श्रृंखला सघन आबादी के बीच से होकर गुजरे इसकी कोशिश अधिक हुई है। 

राज्यभर के लोग 12 से 12.30 बजे तक आधे घंटे कतार में एक-दूसरे का हाथ थामकर बिहार सरकार के इस सामाजिक अभियान को अपना समर्थन देंगे। मानव श्रृंखला को लेकर 11 से 2 बजे तक पूरे राज्य में यातायात व्यस्था नियंत्रित रहेगी। जरूरी सेवाओं एम्बुलेंस, रोगी वाहन, मीडिया, वीवीआईपी को इससे छूट रहेगी। 

पटना में गुव्वारा छोड़कर मुख्यमंत्री करेंगे शुरुआत 

मानव श्रृंखला की शुरुआत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना के गांधी मैदान में 50-50 गुब्बारों के 100 गुच्छों को आसमान में उड़ाकर करेंगे। उनके साथ ही बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, विधान परिषद के उपसभापति हारुण रसीद, उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह समारोह में मौजूद होंगे। सभी जिलों के प्रभारी मंत्री और प्रभारी प्रधान सचिव/ सचिव अपने-अपने प्रभार के जिलों में मानव शृंखला का नेतृत्व करेंगे। 

13668 किमी की होगी मानव श्रृंखला
4.25 से 4.5 करोड़ लोगों के शामिल होने की है उम्मीद 
राज्यभर में 12 से 12.30 बजे तक बनेगी मानव शृंखला  

2 अक्टूबर को सीएम ने की थी अभियान की शुरुआत 

राज्य में बाल विवाह एवं दहेज उन्मूलन अभियान की शुरुआत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजधानी के बापू सभागार में गत वर्ष 2 अक्टूबर को की थी। इसी मौके पर मुख्यमंत्री ने 21 जनवरी, 2018 को मानव शृंखला बनाने की घोषणा की थी। तभी से तैयारी चल रही थी। मुख्य सचिव खुद तैयारियों की मानिटरिंग करते रहे हैं। 

40 ड्रोन से फोटो-विडियोग्राफी होगी 

मानव श्रृंखला की 40 ड्रोन से फोटो-विडियोग्राफी होगी। सफलता के लिए 46000 साक्षरताकर्मी, डेढ़ हजार कला जत्था के कलाकार, हजारों जीविका की दीदियों ने दिन-रात डोर-टू-डोर कैम्पेन किया है। राज्यभर में 16 लाख से अधिक नारे, होर्डिंग और बैनर, रेडियो जिंगल, बसों में गानों की सीडी के माध्यम से इसका प्रचार किया गया है। शृंखला निर्माण के लिए सरकार द्वारा बड़े जिलों को 20-20, मध्यम जिलों को 16-16 और छोटे जिलों को 12-12 लाख रुपए दिए गए हैं। 

सफल श्रृंखला वाले जिले पुरस्कृत होंगे 

जनशिक्षा निदेशक विनोदानंद झा ने शनिवार को बताया कि जबर्दस्त उत्साह है। विद्यालयों में शनिवार से ही पूरी-जलेबी बनाए जा रहे हैं। सरकार सबसे सफल मानव शृंखला बनाने वाले जिलों को बिहार दिवस पर पुरस्कृत करेगी। रविवार होने के बावजूद राज्य के 6 से ऊपर के सभी विद्यालय 21 जनवरी को खोले गये हैं।  

‘बिहार फिर कीर्तिमान रचेगा। मानव श्रृंखला को लेकर पूरे राज्य में उत्सवी माहौल है। ठंड को हमलोगों ने चुनौती के रूप में लिया है और तैयारी में अधिक ताकत लगायी गयी है। पिछले साल से भी बड़ी मानव शृंखला बनेगी और बिहार अपने ही रेकार्ड को तोड़ेगा।’
-अंजनी कुमार सिंह, मुख्य सचिव, बिहार  


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Human chain in bihar today against child marriage and dowry

'हिन्दुस्तान स्मार्ट' अख़बार की कॉपी पाने के लिए, नीचे दिए फॉर्म को भरे

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी से साझा नहीं की जाएगी व केवल हिन्दुस्तान अख़बार द्वारा आपसे संपर्क करने के लिए इस्तमाल की जाएगी।