अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्य में किरासन तेल के आवंटन में भारी कटौती

राज्य में किरासन तेल के आवंटन में भारी कटौती

राज्य में किरासन तेल के आवंटन में लगातार कटौती हो रही है। इसके पीछे बिजली की उपलब्धता बढ़ने का तर्क दिया जा रहा है, लेकिन कई स्थानों खासकर दूर-दराज के इलाकों में गरीबों को इस कटौती से परेशानी हो रही है।

कटौती पिछले चार साल से हो रही है। आलम यह है कि 500 प्रतिशत से अधिक की कटौती तो हाल के महीनों में ही कर दी गई। वर्ष 2015-16 की पहली तिमाही में जहां एक लाख 99 हजार 176 किलोलीटर आवंटन केन्द्र सरकार करती थी। वहीं, वर्ष 2018-19 के पहली तिमाही (अप्रैल से जून माह) में मात्र 83 हजार 148 किलोलीटर किरासन का आवंटन किया गया है। यानी चार साल में एक लाख 16 हजार 928 किलोलीटर की कटौती। एक किलोलीटर में 12 हजार लीटर किरासन आता है। इस भारी कटौती के बाद जो मामूली किरासन मिलता भी है, वह मिलावट कालाबाजारियों की भेंट चढ़ जाता है।

वर्ष 2015-16 में 2 करोड़ 15 लाख 75 हजार 493 ग्रामीण परिवारों को इसका लाभ मिलता था, वहीं, चालू वित्तीय वर्ष में कटौती के कारण यह संख्या घट कर एक करोड़ 47 लाख 76 हजार 114 हो गई है। पहले प्रत्येक परिवार को 2.75 लीटर किरासन प्रतिमाह मिलता था, जिसे घटाकर 1.50 लीटर कर दिया गया। चार वर्ष पहले 400 लीटर प्रति वेंडर के हिसाब से 24 लाख 87 हजार लीटर किरासन मिलता था। वह भी घटकर 13 लाख 26 हजार 800 हो गया। यह कटौती हर स्तर पर हुई। यहां तक कि जिला में सुरक्षित मद में भी 10 हजार लीटर की कमी हुई है।

दूसरी ओर सरकारी दावा है कि जिला मुख्यालयों व प्रखंडों में बिजली की उपलब्धता हाल के महीनों में बढ़ी है। किरासन की कटौती का सीधा असर सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रकाश व्यवस्था और रसोई पर पड़ा है। हकीकत यह है कि अब सैकड़ों गांवों के गरीबों के पास गैस कनेक्शन नहीं है। पर्याप्त बिजली भी नहीं पहुंची है। जबसे सरकार ने प्रत्येक परिवार मात्र डेढ़ लीटर प्रति माह आपूर्ति की व्यवस्था की, तब से किरासन की खपत दूसरे कार्यों में होने लगी। खासकर पेट्रोल-डीजल आदि में मिलावट में उसका भरपूर इस्तेमाल हो रहा है।

सब्सिडी वाले किरासन तेल के आवंटन में कमी केन्द्र सरकार की पॉलिसी के तहत हुई है। इस कटौती से लोगों को कोई परेशानी नहीं है। बिजली की उपलब्धता काफी बढ़ी है। हॉस्टल व अन्य सूदरवर्ती क्षेत्रों के लिए किरासन दिया जा रहा है।

- पंकज कुमार, खाद्य सचिव, बिहार

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Huge cut in the allocation of kerosene oil in Bihar