Hosiery Chief Minister, health benefits - घोड़ाकटोरा गये मुख्यमंत्री, किया स्वास्थ्य लाभ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घोड़ाकटोरा गये मुख्यमंत्री, किया स्वास्थ्य लाभ

राजगीर प्रवास के तीसरे दिन शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सुबह साढ़े दस बजे सर्किट हाउस से अपने काफिले के साथ कड़ी सुरक्षा के बीच रोपवे परिसर पहुंचे। वाहनों का काफिला सीधे घोड़ाकटोरा डैम में जाने वाले गेट के अंदर जाकर रूका। गेट के अंदर किसी को जाने की अनुमति नहीं थी। कार्यकर्ताओं को भी मनाही थी। पत्रकारों को रोपवे परिसर में ही घोड़ाकटोरा डैम जाने वाले गेट के पहले ही रोक दिया गया। मुख्यमंत्री के साथ घोड़ाकटोरा जाने के लिए वहां पर ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार, सांसद आरसीपी सिंह, सांसद कौशलेन्द्र कुमार, विधायक रवि ज्योति कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चन्द्रा दिखे। इसके अलावा किसी अन्य लोगों को अंदर जाने की अनुमति नहीं थी। पिछले तीन दिनों से राजगीर प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री मीडिया से दूरी बनाये हुए हैं। ढाई घंटे के बाद एक बजे मुख्यमंत्री घोड़ाकटोरा डैम से वापस लौटे। वाहनों का काफिला तेजी से सर्किट हाउस की ओर निकल गया। इस दौरान मीडिया वाले किसी तरह वाहन की तस्वीर ही ले सके। कार में उनके साथ सांसद आरसीपी सिंह बैठे नजर आये। उसके बाद मुख्यमंत्री सर्किट हाउस में विश्राम करते रहे। सीएम का ड्रीम प्रोजेक्ट है घोड़ाकटोरा : घोड़ाकटोरा मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक है। यह सूबे का पहला इकोटूरिस्ट स्थल है। यहां की मनोरम वादियां पर्यटकों को काफी प्रभावित करती है। जब भी मुख्यमंत्री राजगीर आते हैं तो वे अपने इस ड्रीम प्रोजेक्ट की स्थिति का जायजा लेना नहीं भूलते हैं। सुरक्षा की थी पुख्ता व्यवस्था: मुख्यमंत्री के घोड़ाकटोरा जाने की संभावना को लेकर शनिवार की सुबह से ही पुलिस प्रशासन काफी सजग था। रोपवे परिसर में सुरक्षा काफी टाइट थी। सबों को यह अंदाजा था कि मुख्यमंत्री घोड़ाकटोरा जरूर जाएंगे। इससे पहले शुक्रवार को ही मुख्यमंत्री घोड़ाकटोरा जाने वाले थे,परंतु बारिश होने के कारण वे नहीं जा सके थे। हालांकि घोड़ाकटोरा से लौटने के बाद ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने पत्रकारों से इतना ही कहा कि मुख्यमंत्री पिछले तीन दिनों से राजगीर में स्वास्थ लाभ ले रहे हैं। हालांकि रोपवे परिसर में जदयू कार्यकर्ता मुख्यमंत्री से मिलने के लिए खड़े थे, परंतु किसी कार्यकर्ता से मुख्यमंत्री नहीं मिले। उनका वाहन सीधे सर्किट हाउस में ही जाकर रूका। रोपवे कर्मी को भी जाने से रोका: मुख्यमंत्री के घोड़ाकटोरा जाने के बाद रोपवे से घोड़ाकटोरा जाने वाले गेट को बंद कर दिया गया। वहां पर तैनात सुरक्षा कर्मी किसी को अंदर जाने नहीं दे रहे थे। इस दौरान वहां पर काम से पर्यटन निगम के रोपवे कर्मी को सामान देने के लिए गेट के अंदर जाना था। वहां पर तैनात दंडाधिकारी व सुरक्षा बलों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया। हालांकि बाद में जब उन्होंने अपने वरीय अधिकारी से बात करायी तो उन्हें जाने दिया गया। पिछले दो दिनों से घोड़ाकटोरा नहीं जा रहे पर्यटक : मुख्यमंत्री के घोड़ाकटोरा जाने की संभावना को लेकर पिछले दो दिनों से पर्यटकों के लिए घोड़ाकटोरा जाने की अनुमति नहीं थी। मुख्यमंत्री के जाने की सूचना पाकर वन विभाग ने आनन-फानन में गुरुवार की रात से मोरंग से बनी सड़क की मरम्मत का काम शुरू किया था। सड़क को शुक्रवार की सुबह तक दुरुस्त किया गया, परंतु शुक्रवार को हुई बारिश ने सारी मेहनत पर पानी फेर दिया था। उसके बाद वन विभाग द्वारा शनिवार की सुबह में सड़क की मरम्मत का काम कराया गया। हालांकि पर्यटक सीजन नहीं होने के कारण इन दिनों घोड़ाकटोरा जाने वाले पर्यटकों की संख्या न के बराबर होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hosiery Chief Minister, health benefits

'हिन्दुस्तान स्मार्ट' अख़बार की कॉपी पाने के लिए, नीचे दिए फॉर्म को भरे

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी से साझा नहीं की जाएगी व केवल हिन्दुस्तान अख़बार द्वारा आपसे संपर्क करने के लिए इस्तमाल की जाएगी।