Hindustan Khas Municipal corporation claims only 50 thousand families of Patna affected by water logging - हिन्दुस्तान खास : नगर निगम का दावा, जलजमाव से पटना के 50 हजार परिवार ही प्रभावित DA Image
13 दिसंबर, 2019|10:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिन्दुस्तान खास : नगर निगम का दावा, जलजमाव से पटना के 50 हजार परिवार ही प्रभावित

हिन्दुस्तान खास : नगर निगम का दावा, जलजमाव से पटना के 50 हजार परिवार ही प्रभावित

पटना में बीते दिनों अभूतपूर्व जलजमाव हुआ था। पटना का अधिकांश हिस्सा डूब गया था। मगर राज्य सरकार को भेजे गए नगर निगम के आंकड़े प्रभावितों की संख्या करीब 50 हजार ही बता रहे हैं। निगम ने यह आंकड़ा प्रभावित वार्डों की संख्या के साथ सरकार को भेजा है। हालांकि शहर के कई इलाके अब भी जलजमाव से पूरी तरह उबर नहीं पाए हैं।

पटना के जलजमाव पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नाराजगी जताई थी। जलजमाव के कारणों और भविष्य में इसकी पुनरावृत्ति रोकने को उन्होंने बीते दिनों उच्च स्तरीय बैठक की थी। उसी के बाद पटना नगर निगम और बुडको को कई दिन तक पटना को डुबाने का दोषी माना गया। अफसरों से लेकर इंजीनियरों और कर्मियों पर कार्रवाई हुई। नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव तथा बुडको के एमडी भी हटाए जा चुके हैं।

राज्य सरकार ने पटना नगर निगम से प्रभावित वार्डों और परिवारों का ब्योरा मांगा था। निगम ने 30 वार्डों के जलजमाव से 50 हजार 900 परिवारों के प्रभावित होने की जानकारी दी है। यह आंकड़ा निगम ने नगर विकास एवं आवास विभाग को भेजा था।

अंचल प्रभावित वार्ड प्रभावित परिवार

नूतन राजधानी अंचल 9,11,3 2900

कंकड़बाग अंचल 30,31,32,33,44,46,55 15000

पाटलिपुत्र अंचल 1,2,7,8,22 12000

बांकीपुर अंचल 43,49,36,40,41,42,48,38,39 14000

पटना सिटी अंचल 62,68,72 3200

अजीमाबाद अंचल 54,56,61 3800

मैकडॉवेल गोलंबर से तो अमिताभ भी सूखे नहीं जाते

पटना नगर निगम द्वारा राज्य सरकार को उपलब्ध कराई गई जानकारी में शहर के कई इलाकों में जलजमाव की भयावह स्थिति की तस्वीर भी सामने आई है। सर्वाधिक जलजमाव बांकीपुर अंचल के इलाकों में था। इसमें सबसे ऊपर नाम मैकडॉवेल गोलंबर का है। वहां साढ़े छह फुट से अधिक पानी था। यानी अमिताभ बच्चन जैसी लंबाई वाले भी वहां से नहीं निकल सकते थे।

वहीं, राजेंद्र नगर में भी जलभराव छह फुट था। इसी अंचल के शिवशक्ति नगर, महावीर कॉलोनी, सब्जी बाग, दिनकर गोलंबर से प्रेमचंद गोलंबर और कांग्रेस मैदान के इलाकों में चार फुट से अधिक पानी भरा था। दक्षिणी बाइपास के इलाकों में सबसे ज्यादा पांच फुट पानी नंदलाल छपरा में और चार फुट विंध्यवासिनी नगर में था। पाटलिपुत्र अंचल में बोर्ड कॉलोनी राजवंशी नगर और केशरी नगर इंदिरा पुरी में साढ़े तीन फुट से अधिक पानी भरने की जानकारी रिपोर्ट में दी गई है। पटना सिटी सर्किल में बाजार समिति, चैनपुर, धबलपुरा और नखास पिंड में क्रमश: चार फुट और सा़ढ़े तीन फुट पानी भरा। अजीमाबाद अंचल में बजरंग पुरी में पांच फुट तो दादरमंडी में चार फुट जलजमाव निगम ने माना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hindustan Khas Municipal corporation claims only 50 thousand families of Patna affected by water logging

'हिन्दुस्तान स्मार्ट' अख़बार की कॉपी पाने के लिए, नीचे दिए फॉर्म को भरे

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी से साझा नहीं की जाएगी व केवल हिन्दुस्तान अख़बार द्वारा आपसे संपर्क करने के लिए इस्तमाल की जाएगी।