DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › पटना › नियम तोड़ने पर अब राज्यभर के लोगों को पढ़ना होगा यातायात का पाठ
पटना

नियम तोड़ने पर अब राज्यभर के लोगों को पढ़ना होगा यातायात का पाठ

हिन्दुस्तान टीम,पटनाPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:50 PM
नियम तोड़ने पर अब राज्यभर के लोगों को पढ़ना होगा यातायात का पाठ

यातायात नियम तोड़ने पर अब राज्यभर के लोगों को स्पेशल क्लास करना होगा। अभी यह व्यवस्था केवल पटना में ही लागू है। परिवहन विभाग की कोशिश है कि दिसम्बर तक राज्य के सभी जिले या कम से कम प्रमंडलीय मुख्यालय में इसे जरूर शुरू कर दिया जाय।

राज्य में लोगों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक करने के लिए परिवहन विभाग ने पटना में एक घंटे का विशेष क्लास शुरू किया है। इसमें उन लोगों को पढ़ाया जाता है, जो यातायात नियम का पालन नहीं करते हैं या नियमों को तोड़ते हैं। ऐसे लोगों को जुर्माना के साथ क्लास कराने का नियम बनाया गया है। पटना में अभी तक 2130 से अधिक लोगों ने जुर्माना भरने के बाद यातायात नियम का पाठ पढ़ा है। अब विभाग ने यह निर्णय लिया है कि दिसंबर तक सभी जिलों में प्रशिक्षण सह जागरूकता क्लास शुरू कर दिया जाय ताकि एक बार नियम तोड़ने वाले दोबारा वही गलती नहीं करें।

यह है नियम

राज्य में गाड़ी चलाने वालों में हेलमेट नहीं पहनने, सीट बेल्ट नहीं लगाने व यातायात के अन्य नियमों का पालन नहीं करते देखा जाता है। इस कारण सड़क दुर्घटनाएं होने पर जान-माल का नुकसान अधिक होता है। सड़क दुर्घटना का मूल कारण यातायात नियमों का उल्लंघन होता है। इसलिए परिवहन विभाग ने जुर्माना के साथ 31वां राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के अवसर पर सुधारात्मक प्रशक्षिण कार्यक्रम की शुरुआत की, जिसमें वैसे सभी व्यक्ति को प्रशिक्षण लेना अनिवार्य किया गया जो नियमों को तोड़ते हैं। विभाग के अधिकारी जुर्माना के बाद तुरंत गाड़ी चालक का ड्राइविंग लाइसेंस एवं कागजात को जब्त कर लेते है। जब चालक प्रशिक्षण लेकर प्रमाण पत्र लेता है तभी उसे उसका लाइसेंस व पेपर लौटाया जाता है।

एक साथ 20 लेते हैं प्रशिक्षण

सुधारात्मक प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों को प्रशिक्षण केंद्र में बुलाकर डेढ़ घंटे की ट्रेनिंग दी जाती है। इसके लिए पटना के परिवहन भवन के ऑफिस में एक विशेष क्लास रूम तैयार किया गया है। ट्रेनिंग रूम में एक साथ 20 लोगों के बैठने की क्षमता है। सोमवार से शनिवार तक हर दिन डेढ़-डेढ़ घंटे के दो स्लॉट में ट्रेनिंग दी जाती है।

संबंधित खबरें