अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भूकंपरोधी व फायर प्रूफ होगा पीएमसीएच का भवन

भूकंपरोधी व फायर प्रूफ होगा पीएमसीएच का भवन

पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) का नया भवन भूकंपरोधी और फायर प्रूफ होगा। भवन की छत पर हेलीपैड भी बनेगा, ताकि जरूरत पड़ने पर वहां हेलीकॉप्टर उतारा जा सके। पीएमसीएच भवन को लेकर एक अणे मार्ग में गुरुवार को दिए गए प्रस्तुतीकरण के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई दिशा-निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पदाधिकारियों और डॉक्टरों से कहा कि इस भवन का आइडिया अच्छा है, पर इसमें कुछ सुधार की जरूरत है। पीएमसीएच का आवासीय क्षेत्र एक जगह पर ही बनाएं, जिसमें पारा मेडिकल स्टाफ, नर्सिंग स्टाफ, डॉक्टर आदि के रहने की व्यवस्था हो। अस्पताल और आवासीय क्षेत्र के अलग-अलग होने से मरीजों को असुविधा नहीं होगी। आवासीय क्षेत्र के लिए साउंड प्रूफ तकनीक का प्रयोग हो, ताकि शोरगुल से बचा जा सके। मरीजों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो। भवन बनने के बाद उसका रखरखाव महत्वपूर्ण मुद्दा होता है, इस पर भी ध्यान रखा जाय। यह एक आईकॉनिक बिल्डिंग होगी। अत: इसके निर्माण कंपनी को अपनी विशेष जिम्मेदारी को समझना होगा। मौके पर मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कहा कि पीएमसीएच के भवन में फैंसी चीजों के प्रयोग की जरूरत नहीं है। यहां लगाये जाने वाले साइनेज पर विशेष ध्यान दिया जाय। साइनेज में अंकित चित्रों और शब्दों की साइज का बेहतर ढंग से प्रयोग हो, ताकि यहां आने वाले लोगों को उचित जगह तक पहुंचने में सहूलियत हो। भवन से संबंधित सभी जरूरी चीजों का एक डॉक्यूमेंटेशन तैयार करें, ताकि बाद में इसके रखरखाव व भवन निर्माण की जानकारी के संबंध में किसी भी तरह की असुविधा न हो। मौके पर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, सचिव अतीश चंद्रा, मनीष कुमार वर्मा और डॉक्टर उपस्थित थे।

आईजीआईएमएस के पुराने और कमजोर भवन टूटेंगे

मुख्यमंत्री ने आईजीआईएमएस में राज्य कैंसर संस्थान के शिलान्यास के बाद कहा कि यहां के पुराने और कमजोर भवनों को तोड़कर नया बनाया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग इसकी जांच करेगा कि कौन सा भवन कमजोर हालत में है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2005 नवंबर में हमलोगों ने राज्य की सत्ता संभाली तो आईजीआईएमएस बंद होने के कगार पर पहुंच गया था। यह अपने मकसद से भटक चुका था। हमलोगों ने इसे इस हालत में पहुंचाया कि लोगों का इस पर विश्वास बढ़ा है। आगे कई और काम करने बाकी हैं। राज्य कैंसर संस्थान यहां बन जाने से इस बीमारी के इलाज के लिए मुंबई जाने की विवशता नहीं होगी। यहां पर सोलर पावर प्लांट का शिलान्यास भी किया गया है। इस तरह के प्लांट और भी जगहों पर लगेंगे। विकास के साथ-साथ पर्यावरण को लेकर भी हम लोग गंभीर हैं। संस्थान के निदेशक को कहा कि यहां इलाज तो आप करते हीं हैं, लोगों को भी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करें। इसको लेकर अभियान चलाए, ताकि लोग कम बीमार पड़ें। कहा कि यहां के नर्सिंग संस्थान के कर्मी किसी बात को लेकर चिंता न करें। आराम से काम करें।

मुजफ्फरपुर में 200 करोड़ की लागत से बनेगा कैंसर संस्थान

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि डॉ. श्रीकृष्ण सिंह मेडिकल कॉलेज, मुजफ्फरपुर परिसर में भी 200 करोड़ की लागत कैंसर संस्थान से बनेगा। इसकी सहमति प्रधानमंत्री कार्यालय से मिल चुकी है। इसके लिए जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया चल रही है। दो-तीन महीने में इसका शिलान्यास होगा। आईजीआईएमएस में 500 बेड के अस्पताल भवन का शिलान्यास 28 मई को होगा। साथ ही यहां पर मल्टी पार्किंग भी बनेगी। इसी प्रकार पीएमसीएच को विश्वस्तर का अस्पताल बनाने का प्लान तैयार कर लिया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि बिक्रम के ट्रॉमा सेंटर का संचालन आईजीआईएमएस करेगा। मौके पर विधायक संजीव चौरसिया, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार, ऊर्जा के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, आईजीआईएमएस के निदेशक डॉ. एनआर विश्वास आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Earthquake and fire proof will be PMCH's building