DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ताजमहल बनाने की जिम्मेवारी मिली चीफ इंजीनियर गुप्ताजी को

ताजमहल बनाने की जिम्मेवारी मिली चीफ इंजीनियर गुप्ताजी को

शाहजहां ने ताजमहल बनवाने का फरमान जारी किया। पर ताजमहल बनेगा कैसे? आखिर में जिम्मेवारी मिली चीफ इंजीनियर गुप्ता जी को। गुप्ताजी इसकी तैयारी में लग गए। पीए और ठेकेदार भैयाजी से मशविरा किए। फिर ताजमहल बनाने के लिये टेंडर निकालने में लग गए। पर सवाल है कि आखिर कब निकलेगा ताजमहल का टेंडर? गुप्ताजी ने तो अपने फायदे के लिये 25 सालों तक शाहजहां को उलझाये रखा। कालिदास रंगालय में शुक्रवार को ताजमहल का टेंडर नाटक का मंचन किया गया।

अरुणोदय के बैनर तले अजय शुक्ला लिखित और गुड़िया कुमारी के निर्देशन में नाटक का मंचन हुआ। नाटक के जरिये लेखक ने हास्य-व्यंग्य शैली में मौजूदा नौकरशाही और भ्रष्ट व्यवस्था पर चोट की। लेखक ने यह कल्पना की है कि अगर आज के माहौल में ताजमहल बनवाने का फैसला लिया जाता है तो बनवाने वाले को किस तरह भ्रष्ट व्यवस्था, नौकरशाही और चाटुकारिता से जूझना पड़ता। शाहजहां अपनी पत्नी के सपने पूरे करना चाहता था। पर गुप्ता जी जैसे लोग इस काम की आड़ में अपने सपने पूरे करने में लगे रहते हैं। गुप्ता जी, भैयाजी, मैडम सेठी, नेता, चोपड़ा जैसे किरदार हमें कहीं भी आज मिल सकते हैं जो कि इस सिद्धांत पर चलते हैं कि काम हो न हो पर अपनी दुकान चलती रहनी चाहिये। मुगल सम्राट द्वारा बनवाया गया ताजमहल तो 22 वर्ष में पूरा हो गया पर आज की व्यवस्था में 25 साल में ताजमहल का टेंडर भी नहीं निकल सका। नये कलाकारों से बढ़िया काम करायानिर्देशक गुड़िया कुमारी ने नये कलाकारों के साथ यह नाटक किया है। युवा कलाकारों ने अपने अभिनय से नाटक को आखिरी दृश्य तक रोचक बनाये रखा। नाटक में निशा कुमारी, नीरज कुमार, सौरभ कुमार, अमलेश आनंद, रवि कुमार, नंदकिशोर और रविप्रकाश ने विभिन्न किरदारों को मंच पर जीवंत किया। नाटक में संगीत रणधीर कुमार का, लाइट मदन मोहन कुमार व रौशन कुमार, ड्रेस निशा कुमारी, मंच सज्जा उदय सागर, रवि और दिनेश शर्मा, संयोजन नंदकिशोर, रंजीत, प्रणव ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Drama played in Kalidas rangalaya