अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जीएसटी के तहत ग्राहक कर सकते है शिकायत

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत कोई भी ग्राहक विभागीय अधिकारियों के समक्ष शिकायत कर सकता है। वाणिज्य-कर विभाग के सभी 50 अंचल कार्यालयों में तैनात उप आयुक्त वाणिज्य-कर उनकी शिकायत सुनेंगे। वहीं, सरकार के स्तर पर विभागीय आयुक्त सह प्रधान सचिव को सीधे शिकायत की जा सकती है। जीएसटी के तहत ज्यादा पैसे की आ रही हैं शिकायतें जीएसटी के तहत अधिकतर व्यवसायियों द्वारा ग्राहकों से अधिक मूल्य वसूलने की शिकायतें आ रही हैं। ग्राहक इसकी शिकायत किससे करें, यह उन्हें नहीं पता है। विशेष रूप से दवा व्यवसायियों द्वारा प्रिंट दर के बाद जीएसटी जोड़कर दवाओं की बिक्री की जा रही है। ग्राहकों को यह पता भी नहीं होता कि किस दवा पर कितना जीएसटी का प्रावधान है। ग्राहक चाहें तो संबंधित प्रतिष्ठान के बिल के साथ संबंधित वाणिज्य-कर पदाधिकारी के समक्ष शिकायत कर सकते हैं। निर्धारित दर से अधिक जीएसटी वसूलने वाले पर कार्रवाई की जाएगी। 2.25 लाख व्यवसायी हैं बिहार में निबंधित जीएसटी लागू होने के बाद बिहार में अबतक 2.25 लाख व्यवसायियों ने अपना निबंधन कराया है। वस्तुओं या सेवाओं के वैसे आपूर्तिकर्ता जिनका कुल वार्षिक कारोबार एक वित्तीय वर्ष में 20 लाख से कम है उन्हें इस कानून के तहत कर भुगतान से बाहर रखा गया है। 11 विशेष श्रेणी के राज्यों के लिए यह सीमा दस लाख रखी गयी है। इससे ऊपर के कारोबार करने वाले व्यवसायियों को कर का भुगतान करना होगा। साथ ही उन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ प्राप्त होगा। वैसे करदाता या आपूर्तिकर्ता जिनके द्वारा वस्तुओं या सेवाओं का अंतप्रांतीय कारोबार किया जा रहा है अथवा कर का भुगतान रिजर्व चार्ज बेसिस पर किया जा रहा है, उनके लिए कोई निर्दिष्ट सीमा नहीं रखी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Customer can complain under GST