अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस शुरू से दलित और पिछड़ा विरोधी रही : पासवान

 कांग्रेस शुरू से दलित और पिछड़ा विरोधी रही : पासवान

केन्द्रीय मंत्री व लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान ने कहा कि कांग्रेस शुरू से ही दलित और पिछड़ा विरोधी रही है। आजादी के बाद सबसे ज्यादा दिन सत्ता में रहने के बाद भी उसने कोई ऐसा काम नहीं किया, जिससे इन वर्गों को लाभ हो। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में इन वर्गों के कल्याण के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिये।

श्री पासवान रविवार को दलित, अदिवासी, पिछड़ा, अतिपिछड़ा अधिकार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। लोजपा ने यह आयोजन श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में किया था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के काम से एनडीए के प्रति धारणा बदली है। विश्वनाथ प्रताप सिंह प्रधानमंत्री बने तो लोग उन्हें राजा कहते थे। मात्र एक साल के काम के बाद लोगों ने कहना शुरू किया कि ‘राजा नहीं फकीर है, देश की तकदीर है। नरेन्द्र मोदी तो वास्तव में फकीर हैं। वंचित वर्ग के भी हैं। उन्होंने अनुसचित जाति जन जति कानून को एक बार फिर मूल रूप में ला दिया। चिराग पासवान ने जब नौ अगस्त को आंदोलन का ऐलान कर दिया तो मंत्री होने के नाते मुझे लग रहा था कि पता नहीं क्या होगा। पीएम ने आंदोलन की नौबत नहीं आने दी। अति पिछड़ों के आरक्षण की भी व्यवस्था हो रही है। प्रोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था लागू हो गई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तो बिहार में सबसे पहले यह व्यवस्था लागू की। सम्मेलन में लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि लोजपा देशभर में कार्यक्रम कर विपक्ष का भ्रमजाल तोड़ेगी।

अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष व पशुपालन मंत्री पशुपति कुमार पारस ने की। सांसद व दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचन्द्र पासवान, सांसद बीणा देवी, विधायक राजू तिवारी और राज कुमार शाह के अलावा प्रवक्ता श्रवण कुमार अग्रवाल और अशरफ अंसारी ने भी संबोधित किया। डा. सत्यानंद शर्मा, अनंत गुप्ता और ललन चन्द्रवंशी भी मैजूद थे।

चिराग के निशाने पर कांग्रेस भी रही, पूछे 15 सवाल

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो

दलित, पिछड़ा अधिकार सम्मेलन में लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान के निशाने पर कांग्रेस ही रही। अपने संबोधन में उन्होंने कांग्रेस से 15 सवाल पूछा। हालांकि उन्होंने यूपी की पूर्वी सीएम मायावती और समाजवादी पार्टी से भी दस सवाल पूछे। चिराग ने सवाल किया कि कांग्रेस बताये कि बाबा साहेब को लोकसभा का चुनाव क्यों नहीं जीतने दिया। राहुल गांधी की तीन पीढ़ी की तस्वीर संसद में टंगी है लेकिन राम विलास पासवान के मंत्री बनने के पहले वहां बाबा साहेब की तस्वीर क्यों नहीं थी। कई हस्तियों को भारत रत्न दिया, लेकिन बाबा साहेब को क्यों नहीं। अजा कानून और ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा क्यों नहीं दिया गया। मायावती से पूछा कि अजा कानून पर कोर्ट के फैसले के बाद वह चुप क्यों रही। समाजवादी पार्टी ने प्रोन्नति में आरक्षण का विरोध संसद में क्यों किया। चिराग पासवान ने कहा कि गरीब का बेटा पीएम बनकर सूट पहनता है तो विपक्ष को चुभता है। उन्हें तो बाबा साहेब का भी सूट पहनना चुभता था। रामविलास पासवान की पहल पर वीपी सिंह ने मंडल आयोग लागू किया। अगर आजतक दलित और पिछड़ा वर्ग का उत्थान नहीं हुआ तो 55 साल शासन करने वाली कांग्रेस जिम्मेवार है या चार साल की नरेन्द्र मोदी की सरकार?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Congress has been anti-Dalit and backward: Paswan