DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार पटनासम्मेलन : स्वतंत्रता सेनानियों की तरह उनके उत्तराधिकारियों को भी मिले सुविधाएं

सम्मेलन : स्वतंत्रता सेनानियों की तरह उनके उत्तराधिकारियों को भी मिले सुविधाएं

हिन्दुस्तान टीम,पटनाNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 09:20 PM
सम्मेलन : स्वतंत्रता सेनानियों की तरह उनके उत्तराधिकारियों को भी मिले सुविधाएं

बिहार राज्य स्वतंत्रता सेनानी संगठन एवं बिहार राज्य स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी संगठन सम्मेलन का आयोजन रविवार को दारोगा राय पथ प्रधान कार्यालय में हुआ। इस मौके पर बिहार के अलावा, झारखंड, बंगाल, ओड़िशा, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश व अन्य कई राज्यों के स्वतंत्रता सेनानियों ने भाग लिया।

सम्मेलन में स्वतंत्रता सेनानियों के उत्तराधिकारियों ने भाग लिया। कार्यक्रम का उद्घाटन पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने कहा कि इस मौके पर केंद्र सरकार से मांग की कि स्वतंत्रता सेनानियों को केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा मिलने वाली सारी सुविधाएं को उनके उतराधिकारियों को भी दी जाए। मुख्य अतिथि अवधेश नारायण सिंह ने कहा कि देश की आजादी में स्वतंत्रता सेनानियों का बड़ा योगदान है। सरकार भी उन स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारों के बारे में सोच रही है। उनके उत्तराधिकारियों को सरकारी नौकरी में आरक्षण दिया जा रहा है। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व मंत्री वृषण पटेल, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय जायसवाल, पूर्व मंत्री आलोक मेहता व संगठन के कई पदाधिकारियों ने भाग लिया।

ये प्रस्ताव पास हुए

- स्थानीय सड़कों का नाम स्वतंत्रता सेनानी के नाम से किया जाए।

- अखिल भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार कल्याण परिषद का गठन किया जाए।

- उत्तराखंड की तरह अन्य राज्य भी उत्तराधिकारियों को सारी सुविधाएं दें।

- सेनानियों के उत्तराधिकारियों के ऑनलाइन आश्रित प्रमाण पत्र जारी किए जाएं।

- उत्तराधिकारी एवं उनके बच्चों की शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति का प्रावधान हो।

- स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार को सम्मान स्वरूप राष्ट्रीय परिवार घोषित किया जाए।

- पटना में शहीद संग्रहालय निर्माण के लिए पर्याप्त कोष राज्य सरकार मुहैया कराए।

- स्वतंत्रता सेनानियों की आदमकद प्रतिमा संबंधित पंचायत में लगाई जाए।

- सरकारी नौकरियों में दो फीसदी की जगह पांच फीसदी आरक्षण दिया जाए।

- उत्तराधिकारियों को विवाह संबंधी सहायता राशि 50 हजार से बढ़कर ढाई लाख किया जाए।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें