DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युवाओं की पसंद बनती जा रही सभ्यता द्वार

युवाओं की पसंद बनती जा रही सभ्यता द्वार

गंगा का किनारा। एकांत वातावरण। चारों तरफ हरियाली। हवा में तैरता संगीत। फूलों से महकती बगिया और सामने खड़ा बिहार की गौरव गाथा कहता सभ्यता द्वार। यहां दर्शकों की भीड़ ही इसकी प्रसिद्धि को कहती है। कुछ ही दिनों में इसने अपने ढेर सारे प्रशंसक पा लिये हैं। दिन भर युवाओं की टोली इसे अपलक निहारती है। नितेश की इच्छा बहुत दिनों से यहां आने की थी। आज आकर वह कहता है अब मैं यहीं आकर घूमना चाहूंगा। यहां का माहौल और साफ -सफाई काफी अच्छी है। युवाओं के साथ परिवार और बच्चे भी यहां खूब मस्ती करते हैं। 

सभी ने एक स्वर में कहा अद्भुत 
छात्राएं तो छुट्टी के बाद सभ्यता द्वार पर ही जुटने लगती हैं। मगध महिला कॉलेज के समाजशास्त्र में पीजी कर रहीं शुभा, अंकिता, रजनीगंधा और फरहीन ने बताया कि नि:शुल्क रहने के कारण यहां अक्सर चली आती हैं। सभी ने एक स्वर में बोला अद्भुत नजारा है। दर्शक को गेट नम्बर प्रवेश दिया जा रहा है। 

रीवर फ्रंट भी कम नहीं 
 कलेक्ट्रीएट घाट से लेकर घाघा घाट तक बने रीवर फ्रंट मौज मस्ती की जगह के रूप में विकसीत हो रही है। किसी भी समय युवा दोस्तों के साथ टहलते या गंगा को अपलक निहारते नजर आते हैं। समय की पाबंदी नहीं होने के कारण लोग आसानी से यहां पहुंच जाते हैं। गांधी घाट से लोग गुनगुनी धूप  का मजा लेने के लिए नाव से दियारा भी जाते दिखते हैं। 

प्रकृति का मजा साथ भक्ति भी 
गंगा किनारे प्रकृति की छटा का लोग आनंद उठाते दिखते हैं। सुबह में मॉर्निंग वॉक के साथ- साथ शाम में टहलते भी दिखते हैं। वहीं मौजूद मंदिरों में लोग श्रद्धा से अभिभूत भी हो जाते हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Civilization door becoming choice of youth in patna