अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नयी तकनीक पर कम लागत वाली सड़कें बनाएं : मंत्री

ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार ने विभाग के सभी अभियंताओं को गुणवत्तापूर्ण एवं नयी तकनीक का उपयोग करते हुए कम लागत वाली सड़कों का निर्माण करने पर बल देना चाहिए। मंगलवार को मंत्री विश्व बैंक द्वारा संपोषित मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना के शुभारंभ समारोह सह कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। दो दिनी कार्यशाला का आयोजन सिंचाई विभाग स्थित अधिवेशन भवन सभागार में किया गया है।

मंत्री श्री कुमार ने कार्यशाला में विभिन्न योजनाओं के तहत निर्मित पथों के समुचित रखरखाव को बनाए गए अनुरक्षण नीति के उपयोग पर भी जोर दिया। उन्होंने विश्व बैंक के विशेषज्ञों से अनुरोध किया कि बिहार की भौगोलिक स्थिति के कारण प्रत्येक वर्ष आने वाली बाढ़, उत्तर बिहार की बहुआही मिट्टी आदि को ध्याम में रखते हुए ऐसी नवीन तकनीक से ग्रामीण पथों का निर्माण करें ताकि वह टिकाऊ हों। उन्होंने ग्रामीण टोला संपर्क निश्चय योजना को हर हाल में राज्य सरकार द्वारा निर्धारित अवधि में पूरा करने का निर्देश दिया।

अधिकारियों ने बताया कि बिहार ग्रामीण पथ परियोजना के लिए विश्व बैंक के साथ 335 मिलियन यूएस डॉलर (2271 करोड़ रुपये) से 2500 किलोमीटर ग्रामीण सड़कों के निर्माण का एकरारनामा किया गया है। एकरारनामा के अनुसार इसमें 235 मिलियन यूएस डॉलर (1593 करोड़) ऋण के रूप में विश्व बैंक द्वारा दिया जाएगा जबकि 100 मिलियन यूएस डॉलर (678 करोड़) राज्य सरकार को वहन करना है।

कार्यशाला में ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव विनय कुमार, विश्व बैंक के टास्क टीम लीडर डॉ. अशोक कुमार, अभियंता प्रमुख सुभाषचंद्र, अपर सचिव संजय कुमार, विश्व बैंक के पुल विशेषज्ञ डॉ. राम कुमार, प्रोक्योरमेंट विशेषज्ञ केबी बंसल व संगीता पटेल एवं सामाजिक और पर्यावरण विशेषज्ञ संगीता कुमारी, प्रोजेक्ट मैनेजर नलिनी सिन्हा सहित अन्य अभियंता शामिल हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Build low cost roads based on new technology: Minister