DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मूल प्रमाण पत्र गायब होने पर शिक्षक पहुंच रहे बिहार बोर्ड

टीईटी का मूल प्रमाण पत्र प्रखंड शिक्षा कार्यालय से गायब हो गया। अब डुप्लीकेट लेने के लिए शिक्षक बिहार बोर्ड पहुंच रहे हैं। लेकिन यहां भी उन्हें निगरानी जांच का हवाला देकर वापस कर दिया जा रहा है। ऐसे में शिक्षक परेशान हैं और अब उन्हें नियोजन की चिंता भी सताने लगी है। जिन शिक्षकों का उनके प्रखंड से मूल प्रमाण पत्र गायब हुए हैं, अब उनसे एडमिट कार्ड का मूल प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है। अभ्यर्थी संगीता कुमारी ने बताया कि हमें दस दिनों के अंदर डीईओ के पास मूल प्रमाण पत्र जमा करना है। बिहार बोर्ड डुप्लीकेट दे नहीं रहा है, ऐसे में अब नौकरी पर खतरा हो जायेगा। इसको लेकर टीईटी-एसटीईटी उत्तीर्ण शिक्षक संघ ने बिहार बोर्ड से मांग की है कि जो शिक्षक डुप्लीकेट लेने आ रहे हैं, उन्हें बोर्ड डुप्लीकेट बनाकर दे। बोर्ड चाहे तो पूरी जांच कर सकता है। संघ के प्रवक्ता अश्विनी पांडेय ने बताया कि मूल प्रमाण पत्र गायब होने में शिक्षकों का कोई दोष नहीं है। कुछ फर्जी शिक्षकों को बचाने के लिए पूरे प्रखंड के शिक्षकों का मूल प्रमाण पत्र गायब कर दिया गया है। ज्ञात हो कि आरा जिला के उदवंतनगर और बिहिया प्रखंड के 70 से अधिक शिक्षकों का मूल प्रमाण पत्र गायब हो गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar board news