DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टॉपर्स विवाद: अंतरा-मुखड़ा पता नहीं,म्यूजिक में मिले 92 फीसदी अंक,बोर्ड अध्यक्ष ने दी सफाई

अंतरा और मुखड़े में अंतर पर अटक गए। सा..रे.. गा.. मा भी बमुश्किल ही बजा पाते हैं। कवियों और लेखकों के नाम और जन्मतिथि बता नहीं पाए। कुछ यही हाल है बिहार बोर्ड के आर्ट्स टॉपर गणेश कुमार का। 

जिसे म्यूजिक प्रैक्टिकल में 92 फीसदी अंक आए हैं। सभी विषयों में डिस्टिंक्शन मिले हैं। रिजल्ट निकलने के तीन दिन बाद वह समस्तीपुर के चकहबीब स्थित अपने स्कूल पहुंचा। सोशल मीडिया में टॉपर पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

पिछले साल के इंटर आर्ट्स टॉपर रूबी राय के साथ उसकी तुलना की जा रही है। ऐसे में वहां मीडियाकर्मियों ने उससे कई सवाल किए। इसमें झारखंड के गिरीडीह निवासी आर्ट्स टॉपर का संगीत ज्ञान चौंकाने वाला निकला। अंतरा और मुखड़ा में अंतर पर वह अटक गया।

लिखावट मिलाई थी, इस बार भी क्या ऐसा होगा?

बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने गुरुवार शाम प्रेसवार्ता कर एक बार फिर दोहराया कि गणेश के आर्ट्स टॉपर होने में बोर्ड को संदेह नहीं है। टॉपर बदला नहीं जाएगा। बोर्ड के पास उसकी सभी कॉपियां मौजूद हैं। उन्होंने बताया कि प्रैक्टिकल में नंबर स्कूल देता है। स्कूल की जांच कराई जाएगी।

यदि स्कूल मानक के अनुरूप नहीं निकला तो कार्रवाई की जाएगी। प्रैक्टिकल की परीक्षा अगले वर्ष से होम सेंटर पर नहीं होगी। ऐसा विचार किया जाएगा। यह नीतिगत मामला है। उन्होंने कहा कि छात्र की उम्र थोड़ी ज्यादा है। वह दलित परिवार से आता है इसलिए विलंब से पढ़ना शुरू किया। उसने 2015 में मैट्रिक पास किया है। 

मीडिया के सवालों पर उलझने के बाद गरीबी को अपनी पढ़ाई में बाधा बताया। म्यूजिक विषय के चयन पर उसने कहा कि कम मेहनत कर अधिक अंक लाने के लिए उसने इस विषय को चुना। गरीबी के चलते पासपोर्ट और गेस पेपर से परीक्षा की तैयारी की थी। उसने कवियों और लेखकों के नाम तो बताए मगर उनकी जन्म तिथि और अन्य सवालों में फंस गया। 

काम की तलाश में आया समस्तीपुर 

उसने कहा कि 2009 में पिता की मौत के बाद काम की तलाश में वह समस्तीपुर आया। अखबार बेचकर गुजारा किया। फिर शिवाजीनगर के लक्ष्मीनिया हाईस्कूल से मैट्रिक की परीक्षा दी और प्रथम श्रेणी में पास किया। इंटर के लिए आएसजेएन इंटर कॉलेज, चकहबीब में नामांकन करवाया। कॉलेज से उसे सहयोग मिला। मजदूरी के कारण नियमित क्लास नहीं कर पाता था। 

अब भी खड़े हैं सवाल : 

  • प्रैक्टिकल में एक्सटर्नल आते हैं ऐसे में क्या उन्होंने बिना देखे प्रैक्टिकल के नंबर दे दिए?
  • बोर्ड ने जिस तरह पिछले साल टॉपरों का साक्षात्कार लेकर लिखावट मिलाई थी। इस बार भी क्या ऐसा होगा?

ये मिले हैं अंक : 

आर्ट्स टॉपर को पांच विषयों में डिस्टिंक्शन आए हैं। हिन्दी में 92, म्यूजिक में 83, इतिहास में 80, समाजशास्त्र में 80 और मनोविज्ञान में 59 अंक आए हैं। म्यूजिक प्रैक्टिकल में 70 में 65 अंक मिले हैं। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Arts topper gets 92 percent marks in musical practical without knowing about music