DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जब्त पोकलेन मशीनें चोरी होने में कई पुलिस अफसर नपेंगे

बालू माफियाओं से जब्त पोकलेन मशीन की चोरी के मामले में कई पुलिस अफसरों पर गाज गिर सकती है। सीआईडी ने बिहटा थाने में दर्ज प्राथमिकी को लेकर छानबीन शुरू कर दी है। अब इस मामले की जांच सीआईडी की निगरानी में हो रही है। पोकलेन मशीन की चोरी को लेकर पुलिस अधिकारियों की भूमिका भी जांच के दायरे में है। 23 पोकलेन जब्त किए गए थे पोकलेन मशीन की बरामदगी और उसकी चोरी के मामलों की जांच के लिए सीआईडी ने कांड के अनुसंधानकर्ता पुलिस अधिकारी को तलब किया है। इसी हफ्ते आईओ से केस की अबतक की जांच की प्रगति का ब्योरा लिया जाएगा। इसके बाद एक प्रश्नावली दी जाएगी, जिसके आधार पर आगे की जांच की दिशा तय होगी। पिछले साल पुलिस ने बालू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की थी। इस दौरान बालू के खनन में लगे 23 पोकलेन जब्त किए गए थे। इन्हें थाने पर लाने के बजाए एक जगह रख दिया गया। सूत्रों के मुताबिक पहले तो जब्त पोकलेन को भाड़े पर ही बालू माफियाओं को दे दिया गया। कथित तौर पर प्रति पोकलेन प्रतिदिन का भाड़ा दस हजार रुपए था। इसके बाद इनमें से 13 पोकलेन चोरी हो गए। पुलिस अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध सूत्रों के मुताबिक जब्त 23 पोकलेन को तबतक भाड़े पर चलाया गया, जबतक की उसका कोई खरीदार नहीं मिला। बालू माफिया पोकलेन बेचने के लिए पार्टी ढूंढ़ते रहे। मौका मिलते ही झारखंड की पार्टी को इनमें से 13 पोकलेन करोड़ों रुपए में बेच दिए गए। पोकलेन की कथित चोरी का राज पिछले दिनों खुला तो बिहटा थाने में इससे संबंधित प्राथमिकी दर्ज की गई। जांच से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक पोकलेन की चोरी बगैर पुलिस की मिलीभगत के नहीं हो सकती। लिहाजा कई पुलिस अधिकारियों की भूमिका संदेह के घेरे में है। जांच के दौरान इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों की पहचान की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Action will be taken on police officers for stealing of seized poklen machines