DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चावल आपूर्ति मामले में अनुसंधान की खानापूर्ति करनेवाले आधा दर्जन पुलिस अफसरों पर गिरेगी गाज

धान के बदले चावल की आपूर्ति में हुए घोटाले के अनुसंधान की खानापूर्ति करनेवाले पुलिस अफसरों पर गाज गिरेगी। अनुसंधान की जिम्मेदारी संभाल रहे कई पुलिस अफसरों ने खानापूर्ति कर चार्जशीट दायर कर दी। भेद खुलने पर सीआईडी के अधीन गठित एसआईटी ने इन अफसरों पर कार्रवाई करने को कहा है। सिर्फ शिकायतकर्ता ही गवाहजिला पुलिस द्वारा मिलरों पर दर्ज मामले के अनुसंधान की गुणवत्ता पर भी सवाल खड़ा हो गया है। सूत्रों के मुताबिक कई मामले ऐसे हैं, जिनमें अनुसंधानकर्ता पुलिस अफसर ने सिर्फ वादी (शिकायतकर्ता) को ही गवाह बनाया है। इसके अलावा उन्होंने न तो किसी से पूछताछ की न ही किसी को गवाह बनाना मुनासिब समझा। आरोपी मिलर के सरेंडर करने पर जांच पूरी दिखाते हुए चार्जशीट दायर कर दी। कई मामलों में अनुसंधानकर्ताओं ने उस स्थान का सत्यापन करना भी मुनासिब नहीं समझा जहां मिल है और उसके मालिक पर धोखाधड़ी का केस दर्ज हुआ है। आधा दर्जन से ज्यादा मामलों में कार्रवाई और मॉनिटरिंग के दौरान अबतक इस तरह के कई मामले पकड़े जा चुके हैं। फिलहाल एसआईटी ने आधा दर्जन से ज्यादा अनुसंधानकर्ता पुलिस अफसरों के खिलाफ कार्रवाई के लिए जिलों के एसपी को पत्र लिखा है। जल्द ही ऐसे पुलिस अफसरों पर विभागीय कार्यवाही शुरू हो सकती है। 1202 मामले हैं दर्जधान के बदले चावल की आपूर्ति में गड़बड़ी से जुड़े मामले तीन वित्तीय वर्ष 2011-12, 2012-13 और 2103-14 के हैं। इस दौरान राज्यभर में गड़बड़ी के 1202 मामले दर्ज किए गए हैं। न्यायालय के आदेश के बाद इन मामलों की गुणवत्तापूर्ण और त्वरित अनुसंधान के लिए सीआईडी के अधीन एसआईटी का गठन किया गया है। इनमें से एक करोड़ से ऊपर के गबन के मामलों को एसआईटी ने अपने नियंत्रण में लिया है। इसका पर्यवेक्षण भी एसआईटी करेगी, जबकि अन्य मामलों की वह मॉनिटरिंग कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Action will be taken on investigating police officer in supplying rice