ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार पटनाजयपुर चूड़ी फैक्ट्री से 24 बाल श्रमिक कराए गए मुक्त

जयपुर चूड़ी फैक्ट्री से 24 बाल श्रमिक कराए गए मुक्त

जयपुर चूड़ी फैक्ट्री में आठ साल के बच्चे से पिछले तीन साल से 12-12 घंटे काम लिया जा रहा था। यानी पांच साल की उम्र में ही गया से तस्करी कर बच्चे को...

जयपुर चूड़ी फैक्ट्री से 24 बाल श्रमिक कराए गए मुक्त
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,पटनाSat, 23 Oct 2021 06:50 PM
ऐप पर पढ़ें

जयपुर चूड़ी फैक्ट्री में आठ साल के बच्चे से पिछले तीन साल से 12-12 घंटे काम लिया जा रहा था। यानी पांच साल की उम्र में ही गया से तस्करी कर बच्चे को जयपुर ले जाया गया था। उस बच्चे का काम सिर्फ नग लगाना था। उसके साथ 11 साल का बच्चा भी चूड़ी पर नग लगाने का काम कर रहा था। जयपुर चूड़ी फैक्ट्री से मुक्त होकर आये बच्चे ने बताया कि उन्हें सिर्फ चावल और सब्जी खिलाया जाता था और दिन-रात काम कराया जाता था। आंख खुलने के साथ काम में लगा दिया जाता था। एक बच्चे ने वहां से भागकर पुलिस को सारी बातें बता दी। पुलिस और चाइल्ड लाइन की पहल पर चूड़ी फैक्ट्री से 24 बच्चों को मुक्त कराया गया।

अधिक समय तक काम करने के कारण बाल श्रमिकों की हालत खराब थी। मुक्त कराने गये चाइल्ड लाइन की टीम बच्चों को देख हैरत में पड़ गयी, इतने छोटे बच्चों से कैसे काम लिया जा रहा था। मुक्त कराये गये बाल श्रमिक शुक्रवार रात पटना पहुंचे। पटना पहुंचने पर बच्चों को बाल कल्याण समिति के सामने प्रस्तुत किया गया। बच्चों ने जयपुर चूड़ी फैक्ट्री में हो रही यातना की दास्तां सुनाई। कई घंटों तक बच्चों की काउंसिलिंग करने के बाद उनके घर भेज दिया गया। मुक्त कराये गये अधिकतर बाल श्रमिक गया के थे। इसके अलावा नालंदा, जहानाबाद और शेखपुरा इलाके से थे। बता दें कि लॉकडाउन के बाद बच्चों की तस्करी काफी बढ़ गई है। हर दूसरे दिन किसी न किसी रेलवे स्टेशन से बच्चों को मुक्त कराया जा रहा है। अब तक 200 बच्चों को मुक्त कराया जा चुका है।

epaper