DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हड़ताल के दौरान पीएमसीएच में 12 मरीजों की मौत

pmch, bihar

जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के दौरान बुधवार को पीएमसीएच में 12 मरीजों की मौत हो गई। हालांकि अस्पताल प्रशासन का कहना है कि मरीजों की मौत हड़ताल के दौरान किसी प्रकार की लापरवाही से नहीं बल्कि सभी मरीज गंभीर थे। जूनियर डॉक्टरों के काम पर नहीं आने से कई मरीजों को ओपीडी में काफी इंतजार करना पड़ा। अपराह्न दो बजे की बजाय डेढ़ बजे ही सीनियर डॉक्टर ओपीडी छोड़ चले गए। जिससे प्रदेश के अन्य हिस्सों से आने वाले मरीजों को काफी परेशानी हुई। इधर हड़ताल का आपरेशन थियेटर में कोई विशेष असर नहीं पड़ा। आईजीआईएमएस और एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर हड़ताल से अलग रहे। इधर जूनियर डाक्टर्स एसोसिएशन का कहना है कि पीजी काउंसिलिंग के दौरान गिरफ्तार किए गए चार छात्रों की जब तक रिहाई नहीं होती है, वे काम पर नहीं लौटेंगे। सोमवार और मंगलवार को सड़क दुघर्टना, फेफडे में पानी, ब्रेन हेम्रेज, मेनेंजाइटिस, जौंडिस आदि से पीड़त 12 मरीजों को इमरजेंसी में भर्ती कराया गया था। इसमें तीन मरीजों को आईसीयू में भर्ती किया गया था। जबकि शेष का इमरजेंसी में उपचार चल रहा था। सुबह पांच बजे से आठ बजे के बीच इन मरीजों की मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि गंभीर मरीजों की मौत सामान्य है। अधीक्षक डॉ. लखींद्र प्रसाद का कहना है कि पीएमसीएच में प्रतिदिन गंभीर मरीजों की मौत हो जाती है। बुधवार की हुई मौत हड़ताल से जोड़ा नहीं जा सकता है, हालाकि वार्ड में भर्ती मरीजों का कहना था कि सुबह से ही डॉक्टर नहीं आए। 11 बजे कुछ सीनियर डॉक्टर मरीजों को देखने आए थे। पीएमसीएच में 47 बडे और 12 छोटे आपरेशन हुए। एक मरीज की सर्जरी नहीं हुई। ओपीडी में 16 सौ मरीज देखे गए। जबकि सामान्य दिनों में औसतन दो हजार मरीजों का उपचार किया जाता है। वार्ड में भर्ती मरीजों को जूनियर डॉक्टर देखने नहीं आए। सबसे अधिक परेशानी हथुआ वार्ड, टाटा वार्ड और राजेंद्र सर्जिकल ब्लॉक में भर्ती मरीजों को हुई। नर्सों के भरोसे रहा वार्ड मरीजों का वार्ड केवल स्टाफ व नर्सों के भरोसे रहा। राजेन्द्र सजिर्कल ब्लॉक में भर्ती एक मरीज का ऑपरेशन भी टाल दिया गया। हालांकि मरीज के डॉक्टरों का कहना था कि उक्त मरीज को भूखे पेट रहने को कहा गया था, लेकिन उसने आपरेशन के पहले खाना खा लिया था। इसीलिए सर्जरी नहीं हुई। कुछ जूनियर डॉक्टर सर्जरी, आईसीयू और प्रसूति रोग विभाग में काम करते देखे गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:12 patients die in PMCH during strike