DA Image
28 जनवरी, 2020|3:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चोर-चोर का शोर ले रहा लोगों की जान

चोर-चोर का शोर ले रहा लोगों की जान

चोर-चोर का शोर हुआ नहीं कि भीड़ टूट पड़ रही है। भीड़ भी ऐसी कि न कोई समझनेवाला न कोई उसे रोकनेवाला। एक बार शोर हुआ नहीं कि हाथ आए शख्स को मौत की नींद सुलाने के बाद ही लोग शांत होते हैं। मॉब लिंचिंग की बिहार में हुई वारदातों की हकीकत कुछ ऐसी ही है। वहीं, आपसी प्रतिशोध में भी मॉब लिंचिंग की कई घटनाएं हुईं।

29 घटनाओं में 11 में चोर के नाम पर हत्या

पुलिस के आंकड़े बताते हैं कि साल 2019 में 25 नवम्बर तक बिहार में मॉब लिंचिंग की 29 वारदात हुई। इनमें 11 मामले ऐसे थे जिनमें चोर के शक में लोगों को पीट-पीटकर मार डाला गया। भीड़ के हाथों मारे गए लोगों में कई की तो पहचान तक नहीं हो पाई। यहां तक कि भिखारी और विक्षिप्त महिला को भी हिंसक भीड़ ने नहीं बख्शा। मसौढ़ी के कालीचक में भीड़ ने चोर-चोर कहकर अज्ञात भिखारी को मार दिया। वहीं वैशाली के महनार में भीड़ ने इसी आरोप में एक विक्षिप्त महिला की पीटकर हत्या कर दी। इसी तरह गया के खिरियांवा, पूर्णिया के गुलाबबाग में मारे गए लोगों की शिनाख्त तक नहीं हो पाई। फारबिसगंज के टेढ़ी मुसहरी में महेश यादव, बेगूसराय के सुजा भारा में अमन कुमार, आरा के गौसगंज में गोविंद सिंह, दरभंगा के मिश्रौलिया में मोहन सहनी, नवादा के फतेहपुर मोड़ पर अमरनाथ गोस्वामी, केसरिया के कढ़ान में सत्येन्द्र राम और बक्सर के बाबू डेरा में ज्योति खरवार नाम के व्यक्ति की भीड़ ने हत्या कर दी। इन सभी मामलों में सिर्फ चोर-चोर का हल्ला करने पर भीड़ ने हिंसक रूप धारण कर लिया। मारे गए लोग चोर थे या नहीं यह जानने की कोशिश तक नहीं हुई।

आपसी प्रतिशोध व बच्चा चोर का भी हल्ला

आपसी प्रतिशोध के दौरान भी मॉब लिंचिंग की वारदातें देखने को मिलीं। नालंदा के दीपनगर के मगरा गांव में ही मॉब लिंचिंग की दो घटनाएं आपसी प्रतिशोध के चलते हुई। इनमें रंजन कुमार और अजय मालाकार की हत्या कर दी गई। वहीं नवगछिया के गोटखरीक में इसी तरह सोनी राजपाल को और जमुई के अलीगंज बाजार में अमर सिंह की हत्या भीड़ ने कर दी। बच्चा चोरी के शक में उन्मादी भीड़ ने दानापुर के चुल्हाइचक, फुलवारी के महमूदपुर जबकि सारण के पिढोरी नंदलाल टोला में मवेशी चोर के आरोप में 3 लोगों को मार डाला।

डायन के नाम पर भी लोगों ने कानून अपने हाथ में लिया और नवादा के कोयलीगढ़ी में मन्ती देवी को पीट-पीटकर मार डाला। कहीं लुटेरे तो कहीं सड़क हादसे के बाद चालक को भी भीड़ ने मौत की नींद सुलाने में देरी नहीं की।

मॉब लिंचिंग

2019 में 25 नवम्बर तक 29 घटनाएं हुईं

306 नामजद व सैकड़ों अज्ञात पर एफआईआर

145 नामजद व अज्ञात को गिरफ्तार किया गया

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:11 people killed in suspicion of thief in 29 incidents of mob litching