ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार नवादामुखिया हत्याकांड में तीन और गिरफ्तार, सुपारी किलर से कराई गई थी हत्या

मुखिया हत्याकांड में तीन और गिरफ्तार, सुपारी किलर से कराई गई थी हत्या

पकरीबरावां प्रखण्ड की बुधौली पंचायत के मुखिया पप्पू मांझी की हत्या को सुलझा लेने का दावा पुलिस ने किया है। हत्याकांड में शामिल तीन अन्य अपराधियों को गिरफ्तार किया गया...

मुखिया हत्याकांड में तीन और गिरफ्तार, सुपारी किलर से कराई गई थी हत्या
default image
हिन्दुस्तान टीम,नवादाWed, 19 Jun 2024 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

पकरीबरावां, निज संवाददाता।
पकरीबरावां प्रखण्ड की बुधौली पंचायत के मुखिया पप्पू मांझी की हत्या को सुलझा लेने का दावा पुलिस ने किया है। हत्याकांड में शामिल तीन अन्य अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। इस प्रकार पांच लोग पुलिस के हत्थे चढ़ चुके हैं। मंगलवार को पकरीबरावां थाना परिसर में आयोजित पीसी में एसडीपीओ महेश चौधरी ने कांड का खुलासा करते हुए कहा कि 13 जून की रात को पंचायत के मुखिया पप्पू मांझी की इंटर विद्यालय बुधौली के परिसर में सोए अवस्था में गोली मारकर कर दी गई थी। बताया गया कि वरीय पदाधिकारी के आदेशानुसार एसडीपीओ महेश चौधरी एवं थानाध्यक्ष अजय कुमार के निर्देशन में एक एसआईटी टीम गठित की गई। अनुसंधान के क्रम में यह बात सामने आई कि बुधौली पंचायत के मुखिया पप्पू मांझी को बुधौली गांव के उग्रीन प्रसाद के पुत्र अमरेन्द्र कुमार एवं दिऔरा गांव के रामानंद शर्मा के पुत्र मनीष सिंह ने पंचायत चुनाव में प्रत्याशी बनाया और जिताकर मुखिया बनाया। मुखिया बनने के बाद वर्ष 2019 से अबतक मुखिया केवल सरकारी योजना का राशि निकालने के लिए अंगूठा/ हस्ताक्षर लगाता रहा और सभी पैसा अमरेन्द्र एवं मनीष सिंह लेता रहा। इस बात को लेकर मुखिया के घर में पारिवारिक लड़ाई- झगड़ा भी हो रहा था।

विपत्र पर हस्ताक्षर करने से इंकार कर रहे थे मुखिया

पुलिस के अनुसार अनुसंधान में सामने आया कि एक- दो माह से मुखिया योजना मद की निकासी के लिए विपत्र पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे थे। यहां तक कि गांव के इंटर विद्यालय में बाउंड्री वाल का निर्माण करा रहे अमरेन्द्र एवं मनीष को काम करने से रोक दिया था। इस बात को लेकर दोनों गुस्से एवं तनाव में थे। इधर, पंचायत का उप मुखिया भलुआ गांव निवासी अनुज कुमार पांडेय उर्फ छोटू पांडेय से अमरेन्द्र एवं मनीष ने संपर्क किया। मुखिया बनाने की शर्त पर छोटू पांडेय को तैयार किया। दोनों ने कहा कि मुखिया बनने के लिए वर्तमान मुखिया को रास्ते से हटाना होगा। छोटू पांडेय मुखिया को रास्ते से हटाने को तैयार हो गया।

मुखिया की हत्या के लिए सुपारी किलर को ढूंढा

पुलिस के अनुसार बुधौली गांव का रामा चौधरी उप मुखिया छोटू पांडेय के साथ गांजा पीया करता था। इस बीच छोटू पांडेय ने रामा चौधरी के समक्ष यह बात रखी कि कोई ऐसा लड़का बताओ जो किसी की हत्या कर सकता है। रामा चौधरी ने कहा कि कोयरिया बीघा के गोपाल विश्वकर्मा का बेटा निखिल कुमार यह काम कर सकता है। रामा चौधरी ने उप मुखिया को निखिल से मिलवाया। उप मुखिया ने निखिल से कहा कि अगर तुम मुखिया की हत्या कर देते हो तो हम मुखिया बन जायेंगे। तुम लोगों को बहुत सारा काम देंगे। निखिल ने मुखिया को मारने के लिए ढाई लाख में सुपारी ली। उप मुखिया ने 10 हजार रुपए उसे बतौर एडवांस के तौर पर दिया।

मनीष ने कॉल कर मुखिया को घर से बुलाया

अनुसंधान में यह बात सामने आई कि घटना के दिन आठ- नौ बजे रात को मुखिया के मोबाइल पर फोन कर कहा कि अमरेन्द्र इंटर स्कूल के साइट पर बुलाया है। छोटू पांडेय निखिल को हथियार और गोली उपलब्ध कराया। उसके बाद छोटू वहां से चला गया। रामा चौधरी और निखिल अधिक रात होने का इंतजार करने लगा। उस स्थान पर मुखिया के अलावा तीन और आदमी सोया हुआ था। इस बीच रामा चौधरी ने निखिल कुमार को मुखिया की पहचान करवा देता है। निखिल अपने पास में रहे हथियार से मुखिया को सोए अवस्था में गोली मार देता है, जिससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो जाती है।

पुलिस ने कांड में संलिप्त पांच लोगों को किया गिरफ्तार

एसडीपीओ ने बताया कि हत्याकांड में शामिल पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि मनीष सिंह, अमरेन्द्र कुमार, उप मुखिया छोटू पांडेय, रामा चौधरी एवं निखिल कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने निखिल से गहन पूछताछ के बाद हत्या में प्रयुक्त देशी कट्टा को बरामद किया है। पुलिस ने दो जिंदा कारतूस, एक खाली खोखा एवं दो बारूद भरा हुआ खोखा बरामद किया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।